Breaking News

आईएएस बनना चाहती हैं किन्नर ब्यूूटी कॉन्टेस्ट जीतने वाली श्रुति

19 0
  • केरल के कोच्चि में लगातार दूसरे साल हुई किन्‍नरों की सौन्‍दर्य प्रतियोगिता

कोच्चि। अप्रैल 2014 में सुप्रीम कोर्ट ने किन्नरों (ट्रांसजेंडर) को तीसरे लिंग के रूप में मान्‍यता दी थी। इस फैसले से हर किन्नर को जन्म प्रमाणपत्र, राशन कार्ड, पासपोर्ट और ड्राइविंग लाइसेंस में तीसरे लिंग के तौर पर पहचान हासिल करने का अधिकार मिला। अब वो सरकारी नौकरी में भी हैं और खेल के क्षेत्र में भी। यही नहीं, अब किन्‍नरों के लिए ब्‍यूटी कॉन्‍टेस्‍ट भी हो रहे हैं। केरल के कोच्चि में इस बार लगातार दूसरे साल किन्‍नरों का ब्‍यूटी कॉन्‍टेस्‍ट आयोजित हुआ।

श्रुति बनीं किन्‍नरों की ब्‍यूटी क्‍वीन

कोच्चि में बीते 18 जून को किन्‍नरों की सौंदर्य प्रतियोगिता ‘क्‍वीन ऑफ द्विवायाह’ का आयोजन हुआ, जिसमें केरल के सभी किन्‍नरों ने हिस्‍सा लिया। इस प्रतियोगिता की विजेता रहीं श्रुति सिथारा। इस प्रतियोगिता को जीतकर उनका आत्‍मविश्‍वास बहुत बढ़ गया है। श्रुति तिरुअनंतपुरम में सोशल जस्टिस विभाग के ट्रांसजेंडर विंग में प्रोजेक्‍ट असिस्‍टेंट के तौर पर काम करती हैं और कई मुश्किलों को पार करते हुए वो यहां तक पहुंची हैं। वो कहती हैं कि उनका यही सपना है कि समाज में तीसरे वर्ग को भी प्‍यार और सम्‍मान मिले।

संघर्ष कर जीवन में बढ़ीं आगे

स्‍थानीय मीडिया से बातचीत में श्रुति ने बताया कि समाज द्वारा स्‍वीकार करने के सफर में उन्‍हें कई तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ा। उन्‍होंने खुलासा किया कि अपने संघर्ष के दिनों में वो अपनी पहचान को लेकर बहुत असमंजस में थीं। बचपन में चो कोट्टायम के रे‍जिडेंशियल स्‍कूल में 12वीं तक पढ़ी हैं और इसके बाद उन्‍हें किन्‍नरों के समुदाय में भेज दिया गया। यहां उसे परवीन के नाम से जाना जाता था। श्रुति का कहना है कि दोस्‍तों और परिवार की मदद के बिना वो जिंदगी के प्रति इतना आत्‍मविश्‍वास नहीं रख पातीं। उनके दोस्‍तों ने उसके माता-पिता और भाई तक उसकी असली पहचान को बताने में बहुत मदद की।

इस साल दिया है आईएएस प्री का एक्‍जाम

श्रुति लगातार संघर्ष के बादद आज लोगों की सोच को बदलने में कामयाब हो पाई हैं। उन्‍होंने इस साल सिविल सेवा की प्रारंभिक परीक्षा दी है। अब श्रुति इस परीक्षा के परिणाम का इंतजार कर रही हैं। श्रुति कहती हैं कि अगर वो इस बार परीक्षा पास नहीं कर पाईं तो दोबारा परीक्षा देंगी। वो भारत की पहली ट्रांसजेंडर आईएएस ऑफिसर बनना चाहती हैं।

Related Post

एयरपोर्ट पर मांगा प्रेग्नेंसी का प्रूफ, नहीं दिया तो उतरवा लिये महिला के कपड़े

Posted by - June 28, 2018 0
महिला के पति ने दर्ज कराई आपत्ति, सीआईएसएफ ने चेकिंग करने वाली अफसर को हटाया गुवाहाटी। असम में एयरपोर्ट पर…

सुप्रीम कोर्ट का फैसला – किसी राज्य में बैन नहीं होगी ‘पद्मावत’

Posted by - January 18, 2018 0
चार राज्यों में इस फिल्‍म पर प्रतिबंध लगाने को सुप्रीम कोर्ट ने असंवैधानिक करार दिया सर्वोच्‍च अदालत ने कहा –…

वर्ल्ड पावरलिफ्टिंग चैम्पियन समेत 5 प्लेयर्स की हादसे में मौत

Posted by - January 7, 2018 0
मृतकों में वर्ल्ड चैंपियन सक्षम यादव भी, एक अन्‍य खिलाड़ी की हालत गंभीर दिल्‍ली-चंडीगढ़ हाईवे पर सिंधु बॉर्डर पर रविवार…

एपेक में भारत की सदस्यता की वकालत करेंगे डोनाल्ड ट्रंप

Posted by - November 11, 2017 0
दुनिया की उभरती अर्थव्यवस्थाओं और एशियाई अर्थव्यवस्था में भारत की मजबूत पहचान स्थापित करने को लेकर अगले सप्ताह अच्छी खबर…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *