शिवरतन कुमार गुप्ता ‘राज़’

महराजगंज। पूरे नौ दिनों तक चलने वाले श्री श्री शतचण्डी महायज्ञ की शुरुआत गुरुवार (17 मई) को भव्य कलश शोभायात्रा के साथ हुई। हाथी-घोड़ों के साथ निकली शोभायात्रा यज्ञस्थल खुटहा बाजार स्थित बाँकी माता मंदिर परिसर से निकल कर लखरैयां, बरवा फहीम, सिसवा नवीन, महदेवा, सिंहपुर, पकड़ी, रामनगर, पिपरारसूलपुर, महलगंज होकर त्रिमुहानी नदी घाट पहुंची।

जब तपती गर्मी में शोभायात्रा में एक हाथी को प्यास लगी तो एक युवक ने हैंडपम्प से बाल्टी में पानी भरकर उसकी प्यास बुझाई

त्रिमुहानी नदी के घाट से 1151 कन्‍याओं ने भरा जल

कलश शोभायात्रा के त्रिमुहानी नदी घाट पहुंचने के बाद 1151 कुंवारी कन्याओं ने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच कलश में जल भरा। फिर वहां से गाजे-बाजे के साथ कलश शोभायात्रा जुलूस चेहरी, गोपी, कान्ध, बलुआ, चकबेलवण्डा होते हुए यज्ञस्थल पहुंची, जहां ब्राह्मणों के वैदिक मंत्रोच्चार के बीच यज्ञमण्डप में कलश को स्थापित किया गया।

शोभायात्रा में खूब उड़े अबीर-गुलाल

शोभायात्रा के दौरान जहां युवा भक्त बैण्ड बाजे की धुन पर अबीर-गुलाल उड़ाते हुए थिरक रहे थे, वहीं महिलाओं के मंगल गीत माहौल को पूरी तरह भक्तिमय बना रहे थे। आगे-आगे चल रहे हाथी-घोड़ों के साथ भक्तजन मां शेरावाली, बीर बजरंगी, हर हर महादेव और जय श्री राम के गगनभेदी नारे लगा रहे थे। शोभायात्रा का नेतृत्व मख्खु प्रसाद, लाल जी साहब, कतवारू प्रसाद, कृष्ण कुमार (B.D.C.), पल्टू प्रसाद, आर.एन.तिवारी, अमरनाथ मद्धेशिया, सुग्रीव मौर्या, भोजराज प्रसाद, कालीचरन, जीएम त्रिपाठी, रामललित पासवान, अनुज वर्मा, राममगन भारती आदि ने किया।

पानी और फर्स्ट एड की थी व्यवस्था

तपती धूप और गर्मी को देखते हुए यज्ञ समिति की ओर से गुड़, पानी और फर्स्ट एड की व्यवस्था की गई थी। समिति के शिवाकान्त तिवारी, कुलदीप वर्मा, अनुज वर्मा, किसेन्दर आदि ने जुलूस में शामिल लोगों को गुड़ और पानी के पैकेट बांटे।

पत्रकार के साथ दुर्व्‍यवहार

शोभायात्रा जुलूस की फोटोग्राफ लेने गए the2ishindi.com के संवाददाता के साथ जुलूस में शामिल कुछ युवकों ने बदसलूकी की। युवकों ने यह कहकर फोटोग्राफ लेने से मना किया कि हम सबकी व्यवस्था है इसलिए फोटो नहीं लेने देंगे। पत्रकार द्वारा परिचय बताने के बावजूद शरारती युवकों ने पत्रकार को घेर लिया। पत्रकार ने खतरा भांप तत्काल इसकी सूचना यज्ञ समिति के संयोजक लालजी साहब को दी, तब पत्रकार को शोभायात्रा के फोटो लेने की अनुमति मिली। इस घटना से मीडियाकर्मी काफी आहत है।