Breaking News

वैज्ञानिकों ने तैयार किया कीड़ों को आकर्षित करने वाला ‘सेक्‍सी पौधा’

62 0
  • स्‍पेन के वैज्ञानिकों ने फसलों को हानिकारक कीड़ों से बचाने के लिए ढूंढी अनूठी तरकीब   

लखनऊ। ज़रा सोचिए कि कैसा हो अगर कोई पौधा हानिकारक कीड़ों में यौन आकर्षण पैदा कर उन्हें अपनी तरफ खींचे और फिर उन्हें मार डाले। यह किसानों और उनकी फसलों के लिए तो एक वरदान सरीखा होगा। किसानों को सबसे ज्‍यादा कष्ट उस समय होता है, जब उनकी फसलों को नुकसान पहुंचता है। फिर चाहे यह प्राकृतिक आपदा की वजह से हो या फसलों में कीड़े लगने के कारण। लेकिन इन फसलों को कीड़ों से बचाने के लिए स्पेन के वैज्ञानिकों ने अब एक तरकीब ढूंढ निकाली है।

वैज्ञानिकों ने ढूंढी तरकीब

बता दें कि वैज्ञानिकों ने अब एक ऐसा पौधा ढूंढ निकाला है जो कीड़ों को अपनी ओर आकर्षित करता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि पौधों में अनुवांशिक बदलाव कर उससे फेरोमोन्स नामक रसायन पैदा कर सकते हैं। फेरोमोन्स वही रसायन है, जिसे मादा कीड़े, नर कीड़ों को आकर्षित करने के लिए निकालती हैं। जब पौधों से अधिक मात्रा में फेरोमोन्स पैदा होता है तो इससे नर कीड़े परेशान हो जाते हैं और वो मादा कीड़ों को खोज नहीं पाते। इसके कारण इन कीड़ों के प्रजनन में भी कमी आती है। इन पौधों से जब फेरोमोन्स रसायन निकलेगा तो नर कीड़े उसकी तरफ आकर्षिंत होंगे और उन्‍हें आसानी से नष्‍ट किया जा सकता है।

कीड़ों को दूर ले जाकर मारेंगे

वैज्ञानिकों ने इसके लिए एक  प्रोजेक्ट शुरू किया है, जिसे ‘ससफायर’ नाम दिया गया है। इस प्रोजेक्ट में स्पेन, जर्मनी, स्लोवेनिया और ब्रिटेन के वैज्ञानिकों ने साथ काम किया है। वैज्ञानिकों ने ‘निकोटिआना बेंथामिआना’ प्रकार के पौधे के ज़रिए फेरोमोन्स बनाने में सफलता पाई है। इस प्रोजेक्ट के तहत जिस जगह फसल लगाई गई है, उससे कुछ दूर फेरोमोन्स रसायन पैदा करने वाले पौधों को लगाया जाता है। इन पौधों के जरिए कीड़ों को फ़सल से दूर ले जाया जाता है और फिर वहीं कीटनाशकों के ज़रिए उन पर कंट्रोल किया जाता है।

क्‍यों ढूंढी गई यह तरकीब

बता दें कि पौधों को बचाने के लिए फेरोमोन्स का प्रयोग किया जाता है, लेकिन इसको लैब में बनाने में काफी पैसा लगता है। इसकी कीमत कई बार 23 हज़ार डॉलर से  35  हज़ार डॉलर और कभी-कभी तो 117  हज़ार डॉलर प्रतिकिलो तक पहुंच जाती है। यानी फसल को कीड़ों से बचाने के लिए यह लागत बहुत ज़्यादा है। यही कारण है कि वैज्ञानिकों ने यह नया पौधा तैयार किया है जो फेरोमोन्‍स रसायन उत्‍पन्‍न करता है।

फसलों पर नहीं होगा कीटनाशकों का इस्‍तेमाल

ससफायर प्रोजेक्ट के ज़रिए कीड़ों को फ़सल से दूर ले जाया जाएगा और फिर उन्हें बाहर ही खत्म भी कर दिया जाएगा। इस तरह किसी फसल में कीटनाशक का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा। किसान फसलों को कीड़ों से बचने के लिए से अलग-अलग किस्म के कीटनाशक इस्‍तेमाल करते हैं। स्ट्रॉबेरी,  पालक,  आड़ू, सेब, शफ़तालू, नाशपाती, चेरी, अंगूर, अजवाइन की पत्तियां,  टमाटर,  लाल मिर्च और आलू जैसी फसलों में कीटनाशक चिपके रह जाते हैं, जो हमारी सेहत को नुकसान पहुंचाते हैं। ऐसे में इस नई तरकीब से फसलों की गुणवत्‍ता प्रभावित नहीं होगी।

Related Post

‘हमनवा’ : आभासी दुनिया से सचाई के क्‍लाईमैक्‍स तक पहुंची एक प्रेमकथा

Posted by - October 27, 2017 2
अखबारनवीस राजीव मित्‍तल और मार्केटिंग प्रोफेशनल सुश्री अनुपम वर्मा ने संयुक्‍त रूप से एक किताब लिखी है – ‘हमनवा ’।…

सुनंदा पुष्कर मामले में नया मोड़, खुदकुशी नहीं, हुई थी हत्या

Posted by - March 13, 2018 0
दिल्‍ली पुलिस की सीक्रेट रिपोर्ट से हुआ खुलासा, कोर्ट में पेश होगी रिपोर्ट नई दिल्ली। पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस सांसद…

2019 में ज्यादा सीटें लाएगी बीजेपी, मोदी वाराणसी से ही लड़ेंगे : अमित शाह

Posted by - March 22, 2018 0
नई दिल्ली। यूपी के गोरखपुर और फूलपुर में हुए उपचुनाव में पराजय के बावजूद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का दावा…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *