मास्को। एक शराबी की वजह से रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन 110 लोगों की जान लेने वाले थे। ये खुलासा खुद पुतिन ने किया है। रूस में 18 मार्च को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में व्लादीमिर पुतिन फिर से उम्मीदवार हैं। चुनाव से ठीक पहले आए एक वीडियो में वो बताते दिखते हैं कि आखिर इतने लोगों की जान वो क्यों लेने वाले थे।

क्या है मामला ?
साल 2014 के फरवरी महीने में रूस के सोची में शीतकालीन ओलंपिक होने जा रहे थे। 7 फरवरी को ओलंपिक का उद्घाटन था। पुतिन के मुताबिक उनके पास उद्घाटन समारोह से ठीक पहले एक फोन आया। फोन करने वाले अफसर ने बताया कि एक विमान यूक्रेन से इस्तांबुल जा रहा था। उसके एक यात्री ने खुद के पास बम होने का दावा किया और विमान को सोची ले जाने पर अड़ गया।

पुतिन ने दिए विमान को उड़ाने के आदेश
फोन कॉल आने पर हालात की गंभीरता को समझते हुए पुतिन ने अफसरों से पूछा कि ऐसे मामलों में क्या करना चाहिए। अफसरों ने कहा कि विमान से हमले की आशंका को देखते हुए विमान को नष्ट करने का आदेश देना चाहिए। पुतिन ने तुरंत ऐसा आदेश दिया और ओलंपिक के उद्घाटन के लिए स्टेडियम चले गए।

शराबी ने मचाया था हड़कंप
पुतिन जब स्टेडियम में थे तो उनके पास फिर फोन आया। फोन करने वाले अफसर ने बताया कि विमान में सवार एक शराबी यात्री ने खुद के पास बम होने का दावा किया था। उसे दबोच लिया गया है और विमान को नष्ट करने की जरूरत नहीं है। पुतिन ने इस पर राहत की सांस ली। आखिर वो 110 लोगों की मौत के गुनाह से बच गए थे।