Breaking News

दो भारतीयों को भी फोटोग्राफी के लिए मिला पुलित्जर सम्मान

32 0
  • ‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ और ‘द न्यूयॉर्कर’ को बेस्ट जर्नलिज्‍म के लिए मिला पुलित्जर अवॉर्ड

न्यूयॉर्क पुलित्‍जर पुरस्‍कार समिति ने 102वें पु‍लित्‍जर पुरस्‍कारों की घोषणा कर दी है। पत्रकारिता का यह सर्वोच्‍च पुरस्‍कार पाने वालों में दो भारतीयों के भी नाम हैं। उन्‍हें फीचर फोटोग्राफी की श्रेणी में यह पुरस्‍कार मिला है। ‘द न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स’ अखबार और ‘द न्यूयॉर्कर’ मैगजीन को बेस्‍ट जर्नलिज्‍म के लिए लोकसेवा पुलित्‍जर अवार्ड 2018 से नवाजा गया है। पुलित्जर पुरस्कार की प्रशासक डेना कैनेडी ने यहां सोमवार को कोलंबिया यूनिवर्सिटी में विजेताओं के नाम घोषित किए।

क्‍या है पुलित्‍जर पुरस्‍कार ?

पुलित्जर पुरस्कार पत्रकारिता में अमेरिका का सबसे प्रतिष्ठित सम्मान माना जाता है। यह पुरस्‍कार हंगेरियन-अमेरिकन जर्नलिस्‍ट और न्‍यूजपेपर पब्लिशर जोसेफ पुलित्‍जर (1847-1911) की स्‍मृति में शुरू किया गया था। पहला पुलित्ज़र पुरस्कार साल 1917 में दिया गया था। लोकसेवा पुरस्कार के विजेताओं को एक गोल्ड मेडल दिया जाता है, जबकि अन्य श्रेणी के पुरस्कारों में सभी को 15,000 डॉलर दिए जाते हैं। इस बार इसके लिए 2400 से ज़्यादा आवेदन आए थे।

पुलित्जर पुरस्कार से सम्मानित भारतीय फोटोग्राफर दानिश सिद्दीकी और अदनान आबिदी

किन भारतीयों को मिला पुरस्‍कार ?

नई दिल्‍ली के दानिश सिद्दीकी और मुंबई के अदनान आबिदी को उनकी फोटोग्राफी के लिए यह पुरस्‍कार मिला है। दानिश और अदनान रॉयटर्स के फोटोग्राफर हैं। दोनों को रोहिंग्‍या शरणार्थियों की मार्मिक फोटोग्राफी के लिए इस सर्वोच्‍च सम्‍मान से सम्‍मानित किया गया। दोनों ने भारत में रोहिंग्‍या मुसलमानों के विस्‍थापन को बेहतरीन ढंग से कवर किया था।

किस ख़बर ने दिलाया बेस्‍ट जर्नलिज्‍म का पुरस्‍कार ?

‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ अख़बार और ‘द न्यूयॉर्कर’ मैगजीन को हॉलीवुड फ़िल्म निर्माता हार्वी वाइंस्‍टीन पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों की रिपोर्टिंग के लिए इस साल का पुलित्ज़र पुरस्कार दिया गया है। बीते साल अक्टूबर में छपी इन रिपोर्ट्स के बाद से अबतक करीब 100 से ज्यादा महिलाएं हार्वी वाइंस्‍टीन पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगा चुकी हैं। हालांकि हार्वी कहते रहे हैं कि उन्होंने हर बार मर्ज़ी से सेक्स किया था। यही नहीं, इस रिपोर्टिंग के बाद ही #MeToo कैंपेन शुरू हुआ था, जिसके तहत आज भी दुनियाभर की महिलाएं और पुरुष यौन उत्पीड़न से जुड़े अपने अनुभव साझा कर रहे हैं।

खोजी पत्रकारिता के लिए ‘वाशिंगटन पोस्‍ट’ को पुरस्‍कार

वाशिंगटन पोस्ट’ को खोजी पत्रकारिता के क्षेत्र में अवॉर्ड दिया गया है। यह अवॉर्ड अलबामा से सीनेट के उम्मीदवार रॉय मूर पर दशकों पहले लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों की खोजबीन के लिए दिया गया। हालांकि रिपब्लिकन उम्मीदवार रॉय मूर ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को खारिज किया था, लेकिन इसके बावजूद वो डेमोक्रेट पार्टी के उम्मीदवार से चुनाव हार गए थे।

और किसको मिला पुरस्‍कार

  • साल 2016 में अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों में रूस द्वारा दखलअंदाजी की रिपोर्टिंग के लिए ‘वॉशिंगटन पोस्ट’ और ‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ को संयुक्त रूप से पुरस्कार दिया गया है।
  • फिलीपींस के राष्ट्रपति रोड्रिगो डूटर्टे के ड्रग्स के ख़िलाफ़ युद्ध की रिपोर्टिंग के लिए ‘रॉयटर्स’ को भी अवॉर्ड दिया गया है।
  • ‘द न्यूयॉर्कर’ की स्टाफ लेखिका जिलानी कॉब को ट्रंप के पहले साल के शासन के दौरान नागरिक अधिकारों पर लिखे उनके आलेखों के लिए भी पुरस्कृत किया गया।
  • एक्सप्लैनेटरी रिपोर्टिंग का पुरस्कार ‘द एरिजोना रिपब्लिक’ और ‘द यूएसए टुडे नेटवर्क’ को मिला।
  • फीचर राइटिंग का पुलित्जर पुरस्कार जी क्यू पत्रिका को दिया गया।
  • कलात्मक श्रेणी में एंड्रयू सीन ग्रीर की पुस्तक ‘लेस’ को पुलित्जर पुरस्कार से सम्‍मानित किया गया।

पहली बार किसी रैपर को पुलित्जर

अमेरिकी रैपर और गीतकार केंड्रिक लैमर ने अपनी एल्बम ‘डैम’ के लिए पुलित्जर पुरस्कार जीता है। वेबसाइट सीएनएन डॉट कॉम के मुताबिक, सोमवार को पुरस्कार समारोह के दौरान लैमर की एल्बम ने यह पुरस्कार जीता। पहली बार किसी रैप कलाकार को इस प्रतिष्ठित पुरस्कार से नवाजा गया है। लैमर ने इस एल्बम के लिए जनवरी में पांच ग्रैमी पुरस्कार जीते थे।

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *