Breaking News

पेट्रोल@90 ! कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों से बढ़ सकती है आम लोगों की मुश्किल

3 0

नई दिल्ली। आम आदमी के लिए एक बुरी खबर है। जल्दी ही पेट्रोल की कीमत प्रति लीटर 90 रुपए होने का अंदेशा है। डीजल की कीमत में भी अच्छी-खासी बढ़ोतरी होगी। वजह है कच्चे तेल की कीमतों में लगातार हो रही बढ़ोतरी। पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ने से महंगाई और बढ़ने के आसार हैं।

कितना महंगा है कच्चा तेल ?
कच्चे तेल की कीमत फिलहाल 71 डॉलर प्रति बैरल से ज्यादा है। इसके 80 डॉलर प्रति बैरल होने की संभावना जताई जा रही है।

किसने जताई है आशंका ?
कच्चे तेल की कीमत 80 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंचने का अंदेशा दुनिया की सबसे बड़ी फिनांशियल और रिसर्च कंपनी जेपी मॉर्गन ने जताया है। बता दें कि कच्चा तेल 2014 के बाद सबसे ऊंची कीमत पर बिक रहा है।

कच्चा तेल महंगा होने की वजह क्या ?

  • सीरिया की हालत और खराब होने से मिडिल ईस्ट में उथल-पुथल मच गई है।
  • ईरान पर अमेरिका और यूरोपीय यूनियन फिर से प्रतिबंध लगा सकते हैं।
  • ईरान और सीरिया में हालात की वजह से कच्चे तेल की कीमत बढ़ सकती है।
  • भारत में पेट्रोल और डीजल के दाम और ऊपर जा सकते हैं।
  • पेट्रोल और डीजल के रेट बढ़ने से महंगाई का खतरा भी बढ़ेगा।
  • सीरिया पर हमले के बाद रूस और अमेरिका में तनातनी बढ़ी है।
  • कई जानकार तीसरे विश्व युद्ध का भी अंदेशा जता रहे हैं।
  • दुनियाभर के शेयर बाजारों में गिरावट का माहौल बना हुआ है।

भारत में क्या हैं फिलहाल पेट्रोल के दाम ?
कच्चे तेल की लगातार बढ़ती कीमत से पेट्रोल की कीमतों में भी उछाल आ रहा है। मुंबई में तो पेट्रोल पहले से ही 82 रुपए प्रति लीटर की कीमत पर बिक रहा है। सीरिया में पूरी दुनिया में उत्पादित होने वाले कच्चे तेल का 0.04 फीसदी ही हिस्सा होता है, लेकिन सीरिया के पड़ोस में इराक, सऊदी अरब और ईरान जैसे बड़े कच्चा तेल उत्पादक देश हैं। किसी बड़ी जंग की स्थिति में कच्चे तेल का उत्पादन प्रभावित होकर इसके दाम बढ़ सकते हैं।

Related Post

पाकिस्तान में इलाज कराने गए अफगान डिप्टी गर्वनर किडनैप

Posted by - अक्टूबर 29, 2017 0
पूर्वी कुनार प्रांत के उप गवर्नर काजी मोहम्मद नबी अहमदी पेशावर के दाबगरी इलाके से हुए अगवा पेशावर। अफगानिस्तान के…

इच्छामृत्यु संबंधी पहली वसीयत रजिस्टर, SC ने दी थी बीते दिनों मंजूरी

Posted by - मार्च 21, 2018 0
नई दिल्ली। सम्माननीय मौत संबंधी सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले के बाद इच्छामृत्यु संबंधी पहली वसीयत देश में रजिस्टर हुई…

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *