• सुबह स्‍वामी असीमानंद सहित सभी 5 आरोपियों को बरी करने का सुनाया था फैसला
  • फैसला सुनाने के कुछ घंटों बाद ही मेट्रोपॉलिटन सत्र न्यायाधीश को सौंपा इस्तीफा

हैदराबाद। हैदराबाद की मक्‍का मस्जिद ब्‍लास्‍ट मामले में फैसला सुनाने वाले स्‍पेशल एनआईए कोर्ट के जज रवींद्र रेड्डी ने अचानक अपने पद से इस्‍तीफा दे दिया है। सोमवार सुबह ही 11 साल पुराने इस मामले में उन्‍होंने स्‍वामी असीमानंद समेत सभी 5 आरोपियों को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया था। इसके कुछ ही घंटों बाद जज रेड्डी ने मेट्रोपॉलिटन सत्र न्यायाधीश को अपना इस्तीफा सौंप दिया। अब उनके इस्‍तीफे के बाद तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे हैं।

क्‍यों दिया इस्‍तीफा ?

एक वरिष्ठ न्यायिक अधिकारी ने न्यूज एजेंसी को बताया कि रेड्डी ने मेट्रोपॉलिटन सत्र न्यायाधीश को अपना इस्तीफा सौंपा है। रेड्डी ने अपने इस्तीफे के लिए निजी कारणों का हवाला दिया और कहा कि इसका आज के फैसले से कोई लेना-देना नहीं है। अधिकारी ने कहा कि दरअसल उन्होंने कहा कि वह काफी समय से इस्तीफा देने पर विचार कर रहे थे। इस्तीफा देने के बाद वह छुट्टी पर चले गए हैं।

मक्का मस्जिद ब्लास्ट में असीमानंद समेत सभी आरोपी बरी, 9 लोगों की गई थी जान

AIMIM चीफ ओवैसी ने इस्‍तीफे पर जताई हैरानी

इस बीच, AIMIM चीफ और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने जज रवींद्र रेड्डी के इस्तीफे पर हैरानी जताई है। ओवैसी ने ट्वीट कर कहा, ‘जिस जज ने मक्का मस्जिद ब्लास्ट के सभी आरोपियों को बरी किया, उन्होंने पहेली के अंदाज में इस्तीफा दे दिया। मैं उनके फैसले से हैरान हूं।’

मक्का मस्जिद फैसला : ओवैसी और कांग्रेस ने NIA पर उठाए सवाल