• सोनौली बॉर्डर के रास्ते लग्‍जरी कार से रात में ले जाते हैं विदेशी युवतियों को दिल्ली और मुम्बई
  • भैरहवा के होटल में दो उज्बेकिस्तानी युवतियां पकड़ी, गिरफ्तार बबलू ने खोले कई सनसनीखेज राज

शिवरतन कुमार गुप्ता ‘राज़’

महराजगंज। इंडो-नेपाल सीमा अब पूरी तरह अय्याशी का अड्डा बन चुकी है। नेपाली लड़कियों के साथ-साथ यहां विदेशी युवतियां भी सेक्स की भूख मिटाने के लिए परोसी जाती हैं। उज्बेकिस्तान, रूस, अफगानिस्तान, चीन समेत भारतीय युवतियों के साथ रंगरेलियां मनाने यहां अय्याश पहुंचने लगे हैं। उन्हें लड़कियां उपलब्ध कराने के लिए कई रैकेट सक्रिय हैं। हाल ही में खुलासा हुआ है कि नेपाल में सेक्स के लिए पर्यटन वीजा पर विदेशी बालाएं बुलाई जाती हैं। ये बातें बबलू सिद्दीकी ने बताई हैं, जिसे नौतनवां के एक होटल से पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उसके साथ उज्बेकिस्तान की दो युवतियां भी पकड़ी गई हैं।

मानव तस्‍करी की घटनाओं में बढ़ोतरी

भारत-नेपाल की सोनौली की खुली सीमा पर अवैध धंधे होना आम बात है, पर इन दिनों यहां मानव तस्करी की घटनाओं में तेजी आई है। विगत दिनों दो विदेशी लड़कियों को भारतीय सीमा में प्रवेश कराते हुए बबलू सिद्दीकी पकड़ा गया था। उसने हैरतअंगेज खुलासा कर सभी को चौंका दिया है। विदेशी युवतियों का सेक्स रैकेट चलाने वाले बबलू सिद्ददकी को सबसे पहले इमीग्रेशन के अधिकारियों ने विदेशी युवतियों को चोरी-छिपे दिल्ली ले जाते सोनौली में पकड़ा था और अब नेपाल की भैरहवा पुलिस ने पकड़ा है।

पर्यटन वीजा पर लाई जाती हैं विदेशी युवतियां

नेपाल पुलिस की पूछताछ में उसने कई चौंकाने वाले खुलासे किए है। रुपनदेही के एसपी श्यामलाल ज्ञवाली के अनुसार, नेपाल में उज्बेकिस्तान, किर्गिस्तान, केन्या, अफ्रीका, चीन से पर्यटक वीजा पर युवतियां पर्यटन के लिए आती हैं। उनका पूरा खर्च सेक्स रैकेट के लोग ही उठाते हैं। एसपी ने बताया कि नेपाल पहुंचते ही उन्हें भारत के दिल्ली और मुम्बई भेज दिया जाता है। उनका वीजा नेपाल और भारत का रहता है। सेक्स रैकेट के लोग आसानी से उन्‍हें ले जाकर देह के धंधे में उतार देते हैं।

बढ़ रही है नेपाली लड़कियों की तस्करी, भारत के वेश्यालयों में धड़ल्ले से बेची जा रहीं

एक रात की कीमत है 300-500 अमेरिकन डॉलर

विश्वस्त सूत्रों की मानें तो ये युवतियां एक रात की कीमत तकरीबन 300 से 500 अमेरिकन डॉलर लेती हैं। सेक्स रैकेट के लोग तब तक इन युवतियों से धंधा कराते हैं, जब तक उनका पर्यटक वीजा खत्म न हो जाए। भारत में उज्बेकिस्तान और किर्गिस्तान की युवतियों की मांग ज्यादा है और एक रात के उन्‍हें ग्राहक 400 से 500 अमेरिकन डॉलर तक दे देते हैं।

सेक्‍स रैकेट के दो लोगों की तलाश

विश्वस्त सूत्रों की मानें तो हर साल हवाई मार्ग से 18 से 20 हजार युवतियां पर्यटक वीजा पर नेपाल आती हैं। इनके पास भारत जाने का वीजा नहीं होता है। सेक्स रैकेट के लोग इन्‍हें पगडंडी के सीमा पार कराने के बाद दिल्ली तक पहुंचाते हैं। एसपी श्यामलाल न्यायालय से अनुमति लेकर बबलू सिद्दीकी से पूछताछ कर रहे हैं। सोनौली बॉर्डर से विदेशी युवतियों को कार से दिल्ली ले जाने वाले दो लोगों की तलाश जारी है। पुलिस के लोग उनका नाम जोगिंदर सिंह और मनु बता रहे हैं। बॉर्डर से रात 11 बजे के बाद विदेशी युवतियों को ले जाया जाता है। नेपाल पुलिस ने अभी कई रहस्‍यों का खुलासा नहीं किया है।

25 मार्च को भी पकड़ी गई थीं दो रूसी युवतियां

बीते 25 मार्च को नेपाल प्रहरी पुलिस दो रशियन युवतियों को पकड़ा था। उन्‍हें फर्जी वीसा के जरिए देश से बाहर ले जाने का प्रयास हो रहा था। पुलिस ने उन्‍हें वीजा दिला रहे एक नेपाली युवक बबलू सिद्दीकी को भी गिरफ़्तार किया था। बता दें कि नेपाल व भारतीय पुलिस को बबलू की काफी समय से तलाश थी। वह विदेश से नेपाल आने वाली उज्बेकिस्तान, तजाकिस्तान व रशियन युवतियों को अपने जाल में फंसाकर उनसे मोटी रकम वसूलने के बाद भारत में नेटवर्किंग के माध्यम से खाड़ी देशों में भिजवाने का काम करता है।