Breaking News

विश्‍व रक्‍तदान दिवस : रक्‍तदान करें और बीमारियों से रहें दूर

15 0

लखनऊ। आज (14 जून)  को  world blood donor day  है। इस दिन  विश्व स्वास्थ्य संगठन रक्तदान के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए अभियान चलाता है। जनमानस को रक्तदान करने के लिए प्रेरित किया जाता है। इस खास दिन पर हमने किंग जॉर्ज चि‍कि‍त्‍सा वि‍श्‍ववि‍द्यालय के ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग की अध्‍यक्ष डॉ. तूलि‍का चंद्रा से बात की।

ब्लड डोनेशन किस उम्र का व्यक्ति कर सकता है ?

डॉ. चंद्रा : 18 साल से लेकर आप 65 साल तक के व्यक्ति ब्लड डोनेट कर सकते हैं।

क्या महिलाएं ब्लड डोनेशन कर सकती हैं ?

डॉ. चंद्रा : महिलाएं भी ब्‍लड डोनेट कर सकती हैं लेकिन प्रेग्‍नेंसी के दौरान नहीं करना चाहिए।

केजीएमयू के ब्लड बैंक में आमतौर पर कितना ब्लड रहता है ?

डॉ. चंद्रा : आमतौर पर केजीएमयू के ब्लड बैंक में पर्याप्‍त ब्लड रहता है लेकिन कभी ऐसा भी होता है कि O+  ग्रुप का रक्‍त ना मिले, क्योंकि इस ग्रुप वालों को केवल O+  ग्रुप का रक्‍त ही दिया जा सकता है।

ब्‍लड बैंक में खून कितने दिन तक ठीक रहता है ?

डॉ. चंद्रा : ब्लड कई कंपोनेंट से मिलकर बनता है और हर कंपोनेट के खराब होने की अवधि अलग-अलग होती है। जैसे- PRBC  ( पैकेट रेड ब्लड सेल्स) 35 दिन में ख़राब हो जाता है। SAGUM  42 दिन में ख़राब होता है,  प्लेटलेट्स 5 दिन में खराब होती हैं और वहीँ FFB ( फर्स्ट फ्रोजेन प्लाज्मा) 1 हफ्ते में ख़राब हो जाता है।

जो ब्लड खराब हो जाता है उसका आप क्या करते हैं ?

डॉ. चंद्रा : जो ब्लड खराब हो जाता है, उसे इंसीनिरेटर में जला दिया जाता है ताकि अशुद्ध रक्‍त से लोगों में किसी प्रकार की बीमारी न फैले।

ब्लड डोनर्स क्या आसानी से मिल जाते हैं ?

डॉ. चंद्रा : ब्लड डोनर मिलना बहुत मुश्किल होता है, क्योंकि लोगों को ऐसा लगता है कि अगर उन्होंने ब्लड डोनेट किया तो वो कमजोर हो जाएंगे।  लोग अपने रिश्तेदारों को भी ब्लड डोनेट करने की जगह ब्लड खरीदना ठीक समझते हैं।

निजी अस्पतालों में भर्ती मरीजों के तीमारदार खून के लिए जगह-जगह भटकते हैं। उन्हें ब्लड के लिए काफी पैसा भी खर्च करना होता है। क्या केजीएमयू से ऐसे मरीजों के लिए भी ब्लड मिल जाता है ?

डॉ. चंद्रा : प्राइवेट अस्पतालों में भले ही खून के लिए भटकना पड़ता हो, लेकिन अगर वे केजीएमयू के ब्लड बैंक में आते हैं तो उन्‍हें ब्लड मिल जाता है, लेकिन इसके लिए उन्‍हें ब्लड डोनेट करना पड़ता है।

विश्व रक्तदान दिवस पर आप लोगों को क्या संदेश देना चाहेंगी

डॉ. चंद्रा : मैं यही संदेश देना चाहती हूं कि ब्लड डोनेट करने के लिए जागरूक हों।  हर तीन महीने पर ब्लड डोनेट करें क्योंकि ब्लड डोनेट कर आप दूसरों की जान तो बचाते ही हैं, साथ ही आपकी सेहत के लिए भी फायदेमंद है। ब्लड डोनेट करने से हार्ट अटैक के चांस कम हो जाते हैं। जो लोग नियमित रूप से ब्लड डोनेट करते हैं, 99% केस में ये देखा गया है कि उनका स्वास्थ्य ठीक रहता है। साथ ही आप जो ब्लड डोनेट करते हैं, उसके 3 कंपोनेंट बनते हैं जो तीन लोगों में जाते हैं। इससे आप तीन लोगों की जिंदगी बचाते है। ब्लड डोनेट करने से ज्‍यादा पुण्‍य का कोई दूसरा काम हो ही नहीं सकता है,  इसीलिए सभी को ब्लड डोनेट करना चाहिए।

Related Post

अनिल अंबानी को झटका, रिलायंस इन्फ्राटेल के सामान की बिक्री पर रोक

Posted by - मार्च 8, 2018 0
मुंबई। रिलायंस कम्युनिकेशन्स को बंद करने वाले अनिल अंबानी को अब राष्ट्रीय कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) ने तगड़ा झटका दिया…

आशुतोष बना रहे हैं पानीपत के युद्ध पर फ‍िल्‍म, लीड रोल में होंगे ये एक्टर

Posted by - मार्च 14, 2018 0
मुंबई। फिल्म डायरेक्टर आशुतोष गोवारिकर इन दिनों अपनी आने वाली फिल्म ‘पानीपत’ में बिजी हैं। ये फिल्म एक पीरियड फिल्म होगी जिसकी…

मौत से पहले सुनंदा पुष्कर ने ई-मेल में लिखा था – ‘मैं मरना चाहती हूं’

Posted by - मई 28, 2018 0
पुलिस द्वारा थरूर के खिलाफ दायर चार्जशीट पर पटियाला हाउस कोर्ट अब 5 जून को करेगा फैसला पुलिस ने कोर्ट में कहा…

Leave a comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *