नई दिल्ली। कर्नाटक के चुनाव में जीत और भाजपा की सरकार बनवाने के बाद भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह का मिशन कर्नाटक लगभग पूरा हो गया है। कर्नाटक में जीत मिलने से उत्‍साहित अमित शाह ने अब नया टारगेट सेट किया है। अमित शाह ने गुरुवार (17 मई) को पार्टी के 7 मोर्चों की संयुक्त कार्यकारिणी की बैठक में कहा, ‘हमें देश में 50 साल तक सत्‍ता में रहने की तैयारी के साथ काम करना है।’

क्‍या कहा भाजपा अध्‍यक्ष ने ?

भाजपा अध्‍यक्ष अध्यक्ष अमित शाह ने मोर्चा संगठनों की बैठक में कार्यकर्ताओं को कर्नाटक चुनाव में जीत की बधाई दी और कहा, ‘सवाल ये नहीं कि हमें वर्ष 2019 या 2024 तक चुनाव जीतना है, बल्कि हमें देश में लंबे समय तक जनता के बीच जगह बनानी है। अगले 50 साल तक सत्ता में रहने की तैयारी से काम करना है, यानी हमें संगठन को और मजबूत बनाना होगा।’ उन्‍होंने कार्यकर्ताओं को अभी से मिशन 2019 की तैयारी में जुट जाने का निर्देश दिया।

क्‍या है अमित शाह का प्‍लान ?

अमित शाह ने कार्यकर्ताओं से प्‍लान भी साझा किया। उन्‍होंने कहा, ‘हमें घर-घर जाकर पार्टी की योजनाएं लोगों को बतानी होंगी। उनसे पार्टी के नंबर पर मिस्ड कॉल करवाना है, ताकि पता चल सके कि कार्यकर्ता कितने घर गए हैं। यही नहीं, यदि संभव हो तो कार्यकर्ता वाट्सऐप लोकेशन भी केन्द्रीय पदाधिकारियों से शेयर करें। हमें ज्यादा से ज्यादा लोगों को नमो ऐप से जोड़ना है। लोगों को बूथ तक पहुंचाना भी कार्यकर्ताओं की जिम्‍मेदारी है।’

भारत को विश्वगुरू बनाना है

अमित शाह ने कहा कि मोदी सरकार ने 25 करोड़ लोगों से सीधा संपर्क कर उनका जीवन स्तर सुधारने का प्रयास किया है। अब उनसे घर-घर जाकर संपर्क करने की जिम्मेदारी सभी मोर्चों की है। शाह ने कहा कि 2019 में भाजपा को सत्ता में लाने का मकसद है भारत को विश्व गुरु बनाना। उन्‍होंने कहा कि सारे राष्ट्रीय मोर्चों को तय समय सीमा में पार्टी के प्रोग्राम को पूरा करने में जुट जाना चाहिए।

पहली बार सात मोर्चों की हुई संयुक्‍त बैठक

उल्‍लेखनीय है कि बीजेपी के अबतक के इतिहास में पहली बार सभी मोर्चों के राष्ट्रीय कार्यकारिणी की संयुक्त बैठक हुई है। बताया जा रहा है कि गुरुवार शाम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इस बैठक को संबोधित करेंगे।