Breaking News

आरक्षण के खिलाफ भारत बंद आज, मुरैना-भिंड में कर्फ्यू, कई राज्यों में सख्ती

14 0

नई दिल्ली। सवर्णों की ओर से आरक्षण के खिलाफ भारत बंद का आह्वान सोशल मीडिया पर देने के बाद आज (10 अप्रैल) उत्तर भारत के तमाम राज्यों में पुलिस और प्रशासन सख्ती बरत रहा है। आज का भारत बंद किसी संगठन ने नहीं, बल्कि सोशल मीडिया पर वायरल किए जा रहे संदेशों के जरिए बुलाया गया है। बता दें कि इससे पहले एससी/एसटी एक्ट के प्रावधानों के तहत तुरंत आरोपी की गिरफ्तारी के खिलाफ 2 अप्रैल को दलित संगठनों ने भारत बंद किया था। उस दौरान यूपी, बिहार, राजस्थान और मध्य प्रदेश में जमकर हिंसा हुई थी।

केंद्र ने दिए सख्ती बरतने के निर्देश
गृह मंत्रालय ने सवर्णों के भारत बंद के आह्वान पर सभी राज्यों को सख्ती बरतने के लिए कहा है। मध्य प्रदेश के भिंड और मुरैना में कर्फ्यू लगा दिया गया है। वहीं, यूपी, राजस्थान और बिहार में धारा-144 लागू कर इंटरनेट पर शाम तक रोक लगा दी है।

किन राज्यों में क्या हाल ?
मध्य प्रदेश

  • मध्य प्रदेश के मुरैना और भिंड में कर्फ्यू लगा दिया गया है। इसके अलावा ग्वालियर, श्योपुर, शिवपुरी जिलों में इंटरनेट बंद कर दिया गया है। भोपाल, रायसेन और टीकमगढ़ में धारा-144 लागू है। गड़बड़ी की आशंका वाले शहरों और कस्बों में तैनात करने के लिए केंद्र ने राज्य को पैरामिलिट्री फोर्स की 6 कंपनियां दी हैं।
  • ग्वालियर में हजारों पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है। धरनों, रैली और जुलूस पर रोक लगाने का आदेश जारी किया गया है।

उत्तर प्रदेश

  • मेरठ, मुजफ्फरनगर, हापुड़ और सहारनपुर में इंटरनेट बंद कर दिया गया है। मुजफ्फरनगर और फिरोजाबाद में स्कूलों को बंद रखा गया है। पुलिस ने कई जगह फ्लैग मार्च किया है।

बिहार

  • आरा में सैकड़ों युवकों ने पटना पैसेंजर ट्रेन को रोक दिया। उन्होंने रेल पटरी पर बैठकर आरक्षण के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।
  • भोजपुर में युवाओं ने कई जगह रोड जाम कर दिया। युवाओं की मांग थी कि जातिगत आरक्षण की जगह आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को ये सुविधा मिलनी चाहिए।
  • मुजफ्फरपुर में पटना रोड के पास युवकों ने टायर जलाकर प्रदर्शन किया।

राजस्थान

  • राजधानी जयपुर और हिंसा की आशंका वाले अन्य शहरों में धारा-144 लगाने के साथ ही इंटरनेट भी बंद कर दिया गया है।
  • चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। हिंसा की घटना होने पर डीएम और एसपी की जिम्मेदारी राज्य सरकार ने तय कर दी है।

Related Post

प्रख्यात साहित्यकार व जनवादी लेखक दूधनाथ सिंह का निधन

Posted by - January 12, 2018 0
नई कहानी आंदोलन को चुनौती देने के बाद साठोत्तरी कहानी आंदोलन का सूत्रपात किया था इलाहाबाद। प्रसिद्ध कथाकार और जनवादी लेखक…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *