• पहली 10 साल की सजा समाप्‍त होने के बाद दूसरी सजा शुरू होगी
  • कोर्ट ने राम रहीम पर 15-15 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया
  • जज के सामने रो पड़ा गुरमीत राम रहीम, मांगी रहम की भीख
  • कोर्ट ने बचाव पक्ष की सजा में रियायत की सभी दलीलें ठुकराईं

चंडीगढ़। सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम रोया, गिड़गिड़ाया, लेकिन कोर्ट ने उसके जघन्य अपराध को देखते हुए रहम नहीं किया। कोर्ट ने सोमवार को दो साध्वियों के यौन शोषण के दोषी सिद्ध हो चुके राम रहीम को दोनों केसों में 10-10 साल यानी 20 साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई। पहली 10 साल की सजा समाप्‍त होने के बाद दूसरी सजा शुरू होगी। हालांकि आमतौर पर जब कई मामलों में अलग-अलग सजाएं दी जाती हैं तो वो एक साथ चलती हैं, लेकिन राम रहीम के इस मामले में जज ने स्‍पष्‍ट रूप से कहा है कि पहली 10 साल की सजा समाप्‍त होने के बाद दूसरी 10 साल की सजा शुरू होगी। इस प्रकार राम रहीम को कुल 20 साल कैद में काटने होंगे। सीबीआई की विशेष अदालत ने राम रहीम पर 15-15 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। इस राशि में से 14-14 लाख दोनों पीडि़ताओं को मिलेंगे। पंचकूला में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने 25 अगस्त को राम रहीम को भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की तीन धाराओं 376 (दुष्कर्म), 506 (डराने-धमकाने) और 509 (महिला की अस्मत से खिलवाड़) के तहत दोषी ठहराया था।

जज ने की सख्‍त टिप्‍पणी

सजा सुनाए जाने से पहले जज जगदीप सिंह ने सख्त टिप्‍पणी की। जगदीप सिंह ने राम रहीम की तरफ इशारा करते हुए कहा, ‘आपने अपने प्रभाव का गलत इस्तेमाल किया है, आपने रेप जैसे अपराध को अंजाम दिया है।’ जज ने फैसला सुनाने के वक्त ये माना कि समाज का एक ऐसा शख्स जिसे लोग बाबा मानते हैं, उसे अलग-अलग रूप में देखते हैं, उसकी बातों को लोग गौर से सुनते हैं, इसके बाद भी उन्होंने ऐसे कुकृत्य को किया है, जिसे किसी भी सूरत में क्षमा नहीं किया जा सकता है। इससे पहले सजा सुनाने के लिए सीबीआई के विशेष जज जगदीप सिंह पंचकूला से हेलीकॉप्टर से पहुंचे। यह पहली बार हुआ जब हरियाणा के किसी जेल परिसर में अदालत लगाकर सजा सुनाई गई। सीबीआई जज को जेड प्लस सिक्योरिटी दी गई है। उन दो साध्वियों को भी कड़ी सुरक्षा दी गई है, जिन्होंने गुरमीत द्वारा यौन शोषण की बात कही थी।

बचाव पक्ष ने की सजा में रियायत की मांग

सुनरिया जेल में डेरा प्रमुख की सजा पर सुनवाई के दौरान बचाव पक्ष के वकीलों ने कहा कि डेरा प्रमुख सामाजिक सरोकारों से जुड़े रहे हैं। डेरा प्रमुख के वकील एसके नरवाना ने कहा कि बाबा ने समाज सेवा के कई काम किए हैं इसलिए उन्हें कम से कम सजा दी जाए। उन्होंने बताया कि बाबा ने 133 समाज सेवा के काम किए हैं। वे नरमी के हकदार हैं। उन्होंने डेरा प्रमुख की जेल बदलने की भी मांग की। वहीं सीबीआई के वकीलों ने कहा कि अब इसमें कोई संशय नहीं है कि साध्वियों का यौन शोषण किया गया है। डेरा प्रमुख ने भावनाओं का दोहन किया है। सीबीआई वकीलों ने डेरा प्रमुख के लिए उम्रकैद की सजा मांगी। सीबीआई के विशेष जज ने बचाव पक्ष की सजा में रियायत की सभी दलीलें ठुकरा दीं।

सुरक्षा के थे कड़े प्रबंध

उधर, सुरक्षा का मोर्चा संभाले जवानों को संदिग्ध गतिविधि पर असामाजिक तत्वों को गोली मारने के निर्देश दिए गए हैं। सजा के मद्देनजर सुबह से ही पूरा रोहतक और सिरसा सेना की निगरानी में रहा। सजा के बाद होने वाली प्रतिक्रिया से निपटने के लिए हरियाणा सरकार ने कड़े बंदोबस्त किए हैं। पुलिस महानिदेशक बीएस संधू के अनुसार अर्धसैनिक बलों की 26 कंपनियां तथा पुलिस तैनात की गई हैं। सेना की कई कंपनियों को विकल्प के तौर पर रखा गया है। उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के आदेश दिए गए हैं।

राम रहीम का बेटा जमसीत संभालेगा डेरे की कमान

बताया जा रहा है कि डेरा प्रमुख के जेल जाने के बाद राम रहीम का बेटा जमसीत इन्सां डेरे की कमान संभाल सकता है। डेरा प्रमुख की पत्नी ने जममीत इन्सां को डेरा सच्चा सौदा का प्रतिनिधि नियुक्त करने की इच्छा जाहिर की है। डेरा सच्चा सौदा की ओर से मंगलवार को इस पर फैसला लिये जाने की संभावना है।

सजा सुनाते ही फर्श पर बैठकर रोने लगा राम रहीम

बताया जा रहा है कि सजा का ऐलान होते ही राम रहीम सिर पकड़कर रोने लगा। वह जज के सामने गिड़गिड़ाने लगा और हाथ जोड़कर रहम की भीख मांगने लगा। राम रहीम ने कोर्ट रूम से बाहर जाने से ही इनकार कर दिया और कहा कि वह यहां से कहीं नहीं जाएगा। वह वहीं फर्श पर बैठकर रोता रहा। हालांकि जज पर उसकी इन हरकतों का कोई असर नहीं पड़ा। इसके बाद डॉक्‍टरों की टीम ने उसकी जांच की और उसकी काउंसलिंग भी की। मेडिकल जांच में राम रहीम को सामान्‍य पाया गया। बाद में राम रहीम को जबरन कोर्ट से ले जाना पड़ा। अब उसे जेल ले जाएगा और जेल की ड्रेस दी जाएगी। चूंकि राम रहीम को सश्रम कैद मिली है, इसलिए जेल में उससे काम भी कराया जाएगा।

Read More : http://aajtak.intoday.in/crime/story/dera-sacha-sauda-chief-ram-rahim-punishment-cbi-court-verdict-1-949114.html