• पूर्वांचल के प्रोफेशनल्स को को-वर्किंग स्पेस उपलब्ध करा रहे अरुण और विभोर
  • एक दिन के लिए कॉन्‍फ्रेंस रूम 499 रुपये में तो एक दिन के लिए आफिस का सिर्फ 399 रुपये

गोरखपुर। लीक-लीक गाड़ी चलै/लीकहीं चले कपूत, लीक छोड़ के तीन चले/शायर, सिंह, सपूत। गोरखपुर के दो सपूतों पर यह लाइन एकदम फिट बैठती है। अपने परिवार के पारंपरिक व्यवसाय के इतर ये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की स्टार्टअप योजना को साकार कर रहे है। व्यवसाय प्रबंधन में डिग्री हासिल करने वाले ये युवा नौकरी कर एक आरामदायक जीवन बिताने की बजाय अपने शहर को नया आयाम देते हुए बहुतेरों के सपनों को गढ़ने की कोशिश में लगे हुए हैं।

हम बात कर रहे हैं दो युवा उद्यमियों अरुण गुप्ता व विभोर जायसवाल द्वारा गोरखपुर में शुरू किए गए स्टार्टअप कैफे की। तेजी से बदल रहे गोरखपुर और आसपास के क्षेत्र के लिए यह कैफे न्यू इंडिया की परिणति है तो आने वाले दिनों में ऑफिस के अभाव में परेशान रहने वाले प्रोफेशनल्स के लिए मौका। शहर में खुले इस कैफे के बारे में विभोर जायसवाल बताते हैं कि आज के युवाओं में आइडिया व कुछ नया करने की क्षमता तो है, लेकिन तमाम मामले में ऐसा होता है कि उनके पास प्राइम लोकेशन पर ऑफिस अफोर्ड करने का बजट नहीं होता। क्लाइंट से बात करनी हो या कोई प्रेजेंटेशन देनी तो इसके लिए उनको किसी बड़े होटल या किसी ऐसी जगह के लिए अधिक भुगतान करना मजबूरी होती है।

अरुण व विभोर के स्टार्टअप कैफे में बना कांफ्रेंस हॉल

अरुण गुप्ता बताते हैं कि विदेशों में और अब तो भारत के ही बड़े शहरों में ऐसे ऑफिस स्पेस उपलब्ध कराए जाते हैं जिसका घंटा या महीना के हिसाब से भुगतान कर आप इस्‍तेमाल कर सकते हैं। आपको काम करने के लिए स्पेस के अलावा कांफ्रेंस हॉल, मीटिंग पॉइंट सबकुछ प्राइम लोकेशन पर मिल जाता है, केवल आपको वहां जाकर अपना काम करना होता। अरुण व विभोर बताते हैं कि पूर्वांचल में ऐसी परिकल्पना अभी मूर्त रूप नहीं ले सकी थी। यहां भी काफी युवा व प्रोफेशनल्स हैं जिनको काम करने के लिए एक सुकूनदायक ऑफिस जैसा माहौल होना चाहिए। हमने इसी सोच को अमली जामा पहनाया है।

क्या है स्टार्टअप कैफे
अरुण व विभोर ने शहर में स्टार्टअप कैफे नाम से एक ऑफिस स्पेस बनाया है। यहां कांफ्रेंस हॉल, केबिन, रिसेप्शन से लेकर वर्किंग स्पेस सब है। कोई भी जो ऑफिस जैसे माहौल में काम करना चाहता है, वह इस स्पेस को बेहद कम कीमत पर बुक करा सकता है। अरुण बताते हैं कि स्टार्टअप कैफे की सीटिंग कैपेसिटी लगभग 50 लोगों की है। आफिस 4999 रुपये महीना देने पर मिल सकता है। इसमें बिजली, हाईस्पीड इंटरनेट, प्रिंटर, वीडियों कॉन्फ्रेंसिंग फैसिलिटी के साथ मीटिंग रूम, पूर्णतया वातानुकूलित ऑफिस, कॉफी और चाय के साथ कैफैटेरिया उपलब्ध कराया जाएगा। एक दिन के लिए कॉन्‍फ्रेंस रूम चाहिए तो वो भी उपलब्ध है। इसका किराया 499 रुपये है। एक दिन के लिए आफिस चाहिए तो 399 रुपये में मिल सकेगा।

इन्होंने सराहा इस आइडिया को  
केंद्रीय कॉमर्स व इंडस्ट्री मिनिस्टर सुरेश प्रभु, यूपी के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. सिद्धार्थनाथ सिंह, जम्मू-कश्मीर के उप मुख्यमंत्री निर्मल कुमार सिंह सहित दर्जनों अफसरों और मंत्रियों ने दोनों युवाओं के इस अभिनव शुरुआत की प्रशंसा ट्विटर व अन्य प्लेटफार्म पर कर चुके हैं।