नई दिल्ली। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मंगलवार को राज्यसभा और लोकसभा में बताया कि इराक में बंधक बनाए गए 39 भारतीयों की हत्या हो चुकी है। उन्होंने बताया कि सभी भारतीयों के शव इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों ने जमीन में काफी गहरे दफना दिए थे, जिन्हें डीप पेनिट्रेटिंग रडार की मदद से तलाशा गया।

सुषमा ने क्या बताया ?
सुषमा स्वराज ने सदन को बताया कि मारे गए भारतीयों में से 38 के शवों से लिए गए डीएनए सैंपल उनके रिश्तेदारों से मिल गए हैं, जबकि 39वें शख्स के डीएनए का भी 70 फीसदी मिलान उसके रिश्तेदारों से हो चुका है।

क्या कर रही है सरकार ?
सुषमा स्वराज ने बताया कि विदेश राज्य मंत्री रिटायर्ड जनरल वीके सिंह इराक जाएंगे और वहां से सभी भारतीयों के शव लाएंगे। शवों को लाने वाला विमान पहले अमृतसर, फिर पटना और आखिर में कोलकाता जाएगा।

क्या हुआ था भारतीयों के साथ ?
इन सभी 39 भारतीय नागरिकों को इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों ने 2014 में मोसुल से अगवा कर लिया था। इनमें से 22 पंजाब के अमृतसर, गुरदासपुर, होशियारपुर, कपूरथला और जालंधर के थे। बाकी के 17 अन्य लोग बिहार और पश्चिम बंगाल के रहने वाले थे।