साल 2018 में ये रही मोदी सरकार की 5 बड़ी योजनाएं, जानिए इनके बारे में

83 0

नई दिल्ली। 2019 के लोकसभा चुनावों के नजदीक होने साथ, सभी की आंखें पिछले चार वर्षों में सरकार के प्रदर्शन की ओर रुख कर रही हैं। 2014 में मोदी सरकार सत्ता में आई और तब से, इसने कई योजनाएं और कार्यक्रमों की शुरुआत की है। यह 2019 के चुनावों से पहले भाजपा को अपने आप को साबित करने का अंतिम वर्ष है। आज हम आपको 2018 में शुरू हुईं सरकार की ये 5 योजनाएं के बारे में बताएंगे।

आयुष्मान भारत

सरकार आयुष्मान भारत योजना (ABY) शुरू कर चुकी है। इस योजना को प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (PM-JAY) भी कहा जाता है। यह वास्तव में हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम है। PM-JAY के तहत देश के 10 करोड़ परिवारों को सालाना 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध होगा। योजना का मकसद हर आर्थ‍िक तौर पर कमजोर शख्स को बेहतर स्वास्थ्य सेवा देना है। इसका फायदा योजना में शामिल सरकारी और अन्य अस्पतालों में मिलेगा। इन अस्पतालों की जानकारी आप योजना की वेबसाइट, मोबाइल ऐप और टोल फ्री नंबर से ले सकते हैं। योजना के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए https://www।pmjay।gov।in/ पर पहुंच सकते हैं या फिर आप 14555 टोल फ्री नंबर पर भी कॉल कर सकते हैं।

सोलर चरखा मिशन

इसी साल जून में राष्‍ट्रपति राम नाथ कोविंद ने सोलर चरखा मिशन की शुरुआत की। इस मिशन के तहत 50 कलस्‍टर को दो साल के लिए 550 करोड़ रुपए की सब्सिडी दी जाती है । इस योजना की लॉन्चिंग से पहले सरकार ने लगभग 550 करोड़ रुपये की सब्सिडी मंजूर कर दी थी।

गोबर धन योजना

सरकार ने इस योजना की घोषणा बजट 2018 में की थी। वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने तब बताया था कि इस योजना के तहत गोबर और खेतों के बेकार या इस्तेमाल में न आने वाले उत्पादों को कम्पोस्ट, बायो-गैस और बायो-सीएनजी में बदल दिया जाएगा। इस योजना से गांव को स्वच्छ रखने में मदद मिलेगी। इसके अलावा पशु-आरोग्य बेहतर होगा और उत्पादकता बढ़ेगी। वहीं बायोगैस से खाना पकाने और लाइटिंग के लिए ऊर्जा के मामले में भी आत्मनिर्भरता बढ़ेगी। जबकि बायोगैस की बिक्री आदि के लिए नई नौकरियों के अवसर मिलेंगे।

प्रधानमंत्री फेलोशिप योजना

इस साल फरवरी में केंद्रीय कैबिनेट ने प्रधानमंत्री रिसर्च फेलोशिप (PMRF) योजना को मंजूरी दी थी। इस योजना के तहत देश के बीटेक इंजीनियरों को IIT, IISER और NIT में पीएचडी के लिए फेलोशिप दी जा रही है। हर साल 1000 बेस्ट टैलंट को चुना जाएगा, जो आईआईटी और आईआईएससी में रिसर्च करेंगे। यह उच्च शिक्षा संस्थान के छात्रों के लिए देश की यह अब तक की सबसे बड़ी स्कॉलरशिप होगी। इस योजना के तहत जो छात्र चुनें जाएंगे, उनको 70 हजार से 80 हजार रुपये की फेलोशिप दी जाएगी। PMRF पर सात साल में 1650 करोड़ रुपये का खर्च आएगा।

पोषण अभियान

यह अभियान ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ को आगे ले जाने के लिए शुरू किया गया। 8 मार्च 2018 को महिला दिवस के दिन राजस्थान के झुंझुनू से इसकी शुरुआत हुई। इसका मकसद 0-6 साल के बच्चों के पोषण की उचित व्यवस्था करना है। इस योजना में लड़कियों और महिलाओं का खास ध्यान रखा गया है।

Related Post

स्टडी से हुआ खुलासा, जो डर गया समझो मर गया वाला गब्बर का डायलॉग है सही

Posted by - September 28, 2018 0
पोर्ट्समाउथ। शोले फिल्म तो देखी ही होगी आपने। इसमें गब्बर सिंह का फेमस डायलॉग है- “जो डर गया, समझो मर गया”।…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *