किसी ने 102 साल में जीता रेस का गोल्ड मेडल, तो किसी ने उड़ाया फाइटर जेट, ये महिलाएं हैं लाजवाब

69 0

नई दिल्ली। औरतें अपने काम के लिए पूरी तरह से जिम्मेदार होती हैं। एक बार जो करने की मन में ठान लेती हैं उसके लिए पूरी मेहनत और ईमानदारी से दिन-रात एक कर देती हैं।दुनिया में कुछ ऐसी महिलाएं भी हैं जिन्होंने दूसरों को प्रेरणा दी।

आइए जानते हैं 2018 की उन निडर महिलाओं के बारे में जिनसे हमें प्रेरणा मिली।

मन कौर– जिस उम्र में लोग बेड पर आराम करते हैं या अपने काम भी दूसरों से करवाते हैं, उस उम्र में मन कौर जवान लोगों की तरह ना सिर्फ काम करती हैं, बल्कि अपनी फिटनेस की वजह से मेडल भी जीत रही हैं। खास बात ये है कि मन कौर की उम्र 102 साल है और उन्होंने हाल ही में एक रेस जीत कर साबित कर दिया है कि उम्र सिर्फ एक संख्या मात्र है। मन कौर ने 93 साल की उम्र में अपने करियर की शुरुआत की और उन्होंने वर्ल्ड मास्टर एथेलेटिक्स में 200 मीटर रेस में गोल्ड मेडल हासिल किया।

नादिया मुराद – साल 2018 का सर्वोच्च नागरिक सम्मान और शांति का नोबेल पुरस्कार नादिया मुराद को दिया गया है। नादिया एक ईराकी नागरिक और यजीदी कार्यकर्ता है। उन्हें यह पुरस्कार दुनियाभर के युद्धग्रस्त क्षेत्रों में यौन हिंसा के खिलाफ काम करने के लिए दिया गया है। पुरस्कार मिलने के बाद नादिया ने बताया कि वे यह सम्मान दुनियाभर में यौन उत्पीड़न के शिकार लोगों को समर्पित करती हैं।

एलाथैवी-हज जो मुसलमानों के लिए सबसे पवित्र यात्रा है, इस यात्रा के दौरान खुदा की इबादत के अलावा और कोई ख्याल भी मन में आना गुनाह माना जाता है, उसी हज यात्रा के दौरान मुस्लिम महिलाओं का यौन शोषण किया गया। मिस्र के एक अमेरिकी कार्यकर्ता और पत्रकार एलाथैवी ने एक फेसबुक पोस्ट लिखा था जिसमें उन्होंने हज में महिलाओं के साथ हो रहे यौन शोषण के बारे में बताया था। ये फेसबुक पोस्ट हो गया था।

मैरीगेल गार्सिया –Mexican Women With Disabilities की फाउंडर मैरीगेल गार्सिया रामोस ने 2017 में विकलांग व्यक्तियों के अधिकारों को दिलाने के लिए अमेरिकी सम्मेलन में मेक्सिको का प्रतिनिधित्व किया।

अवनि चतुर्वेदी – अवनि चतुर्वेदी फाइटर जेट उड़ाने वाली पहली भारतीय महिला पायलट बन गई हैं। उन्होंने अकेले मिग-21 बाइसन विमान उड़ा कर यह कीर्तिमान स्थापित किया है। अवनि ने इसके लिए गुजरात के जामनगर एयरबेस से उड़ान भरी और पहली बार में इसे पूरा किया। इस तरह से अवनि फाइटर एयरक्राफ्ट उड़ाने वाली पहली भारतीय महिला पायलट बन गईं और इतिहास रच दिया।

Related Post

न्यू कैलेडोनिया में 6.8 तीव्रता के भूकंप के झटके, सुनामी का खतरा नहीं

Posted by - October 31, 2017 0
सिडनी: न्यू कैलेडोनिया के तट पर आज 6.8 की तीव्रता का भूकंपआया, लेकिन भूकंप वैज्ञानिकों की ओर से सुनामी की कोई चेतावनी…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *