तरक्की की बिनाह पर नष्ट हो रहा भारत का पर्यावरण, 180 देशों में 177वां स्थान

42 0

नई दिल्ली। दिल्ली और एनसीआर में वायु प्रदूषण का बढ़ना और लगातार बने रहना चिंता का एक बड़ा कारण है। आज देश के पर्यावरण की हालत यह है कि सबसे नीचे के देशों में हम शामिल हो चुके हैं। येल और कोलंबिया विश्वविद्यालय ने 180 देशों के पर्यावरण का सूचकांक तैयार किया है। इस सूचकांक में भारत नीचे से तीसरे यानी 177 वें स्थान पर है। बताया जा रहा है कि भारत के प्रदर्शन में यह गिरावट प्रदूषण में वृद्धि और जंगलों में कमी के कारण आई है।

भारत में पीएम 2.5 यानी बेहद महीन प्रदूषक कणों से मरने वालों वालों की संख्या पिछले एक दशक में बढ़ गई है। इस तरह के प्रदूषण से हर साल देश में 16 लाख 40 हजार लोगों की मौत हो जाती है। रिपोर्ट में कहा गया है कि पब्लिक हेल्थ के लिए खराब पर्यावरण सबसे बड़ा खतरा है। रिपोर्ट के मुताबिक भारत और चीन में प्रदूषण खतरनाक स्तर पर इसलिए है क्योंकि यहां आर्थिक गतिविधियां तेज हैं। दोनों देश विकास के रास्ते पर अग्रसर हैं। देश जैसे-जैसे विकसित होते जाते हैं, वैसे-वैसे शहरों में लोगों की भीड़ बढ़ती है, औद्योगिक उत्पादन बढ़ता है, गाड़ियों की संख्या बढ़ती है और इससे लोग प्रदूषण के चपेट में आते हैं।

भारत की आधी आबादी ऐसी जगह रहती है जहां पानी की सप्लाई बहुत कम है। प्रदूषण से जमीन के भीतर का पानी तक खराब होता है और ग्लोबल वार्मिंग मॉनसून के दौरान बारिश को और अधिक अनियमित बनाती है। इससे देश का भविष्य खतरे में नजर आ रहा है।

नदियों में दवाइयां फेंकने की वजह से देश एंटी-माइक्रोबियल प्रतिरोध के लिए एक हॉटस्पॉट बन गया है। 2000 और 2016 के बीच कार्बन डाइऑक्साइड के उत्सर्जन में 6% की वृद्धि हुई है। भारत अब पूरे अफ्रीका और दक्षिण अमेरिका के संयुक्त रूप से प्रदूषण के मामले में खराब देश बन गया है।

पूरे देश को खुले में शौच मुक्त कराने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई सराहनीय कदम उठाए। उनके स्वच्छ भारत अभियान ने दावा किया है कि उन्होंने 9 करोड़ शौचालयों का निर्माण कराया है, लेकिन भारत अभी भी साफ नहीं है। रिपोर्ट कहती है कि भारत में सड़कें, नदियां और तट तब तक गंदे रहेंगे जब तक हम उनपर ध्यान नहीं देंगे।

Related Post

परासिटामोल बच्चों के लिए है बहुत खतरनाक, बचपन में खाने से किशोरावस्था में होता है दमे का खतरा

Posted by - October 17, 2018 0
मेलबर्न: जब भी कोई बीमारी होती है या फिर दर्द होता है तो बच्चों को पैरासिटामोल दे दी जाती है।…

जानिए, आपके शरीर में कहां होता है एक दूसरा दिमाग !

Posted by - September 22, 2018 0
टोरंटो। कनाडा के टोरंटो में लुनेनफेल्ड तानेबाम रिसर्च इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिकों का कहना है कि आपका पाचन तंत्र बिल्कुल दिमाग…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *