बच्‍चे की सेहत बना नहीं बल्कि बिगाड़ रहे हैं हेल्थ डिंक्स, पिलाने से पहले 2 बार सोच लें

89 0

नई दिल्ली। आजकल कोई भी बच्‍चा दूध में बिना कोई हेल्‍थ ड्रिंक मिलाए दूध पीना नहीं चाहता है। अब हर कोई ही अपने बच्‍चे की सेहत बनाए रखने के लिए कॉम्प्लैन, हॉर्लिक्स,जैसे सप्लीमेंट और माल्ट ड्रिंक्स दूध में मिलाकर पिला रहे हैं। लेकिन क्‍या आपको पता है ये ड्रिंक्‍स आपके बच्‍चे की सेहत बना नहीं बल्कि बिगाड़ रहे हैं। जानिए आखिर क्‍यों खतरनाक है ये हेल्थ डिंक्स।

ये तमाम तरह कि हेल्‍थ ड्रिंक्‍स वास्‍तव में सेहत के लिए सही नहीं हैं। ये शरीर को एक नहीं बल्कि कई प्रकार के नुकसान पहुंचाते हैं। इन सभी हेल्थ डिंक्स में शुगर की मात्रा बहुत ज्‍यादा होती है जो शरीर में चीनी के लेवल को कई गुना बढ़ा देती है। इतनी ज्‍यादा मात्रा में चीनी का सेवन करने से ओरल बैक्टीरिया पनप जाते हैं जो दांतो से जुड़ी कई समस्‍याओं को जन्‍म दे देते हैं।

उदाहरण के तौर पर इसे लें-
कॉम्प्लैन के माल्ट-आधारित पाउडर के 100 ग्राम में 18 ग्राम प्रोटीन, 11 ग्राम फैट और 62 ग्राम कार्बोहाइड्रेट होते हैं, जिनमें से 24 ग्राम चीनी होती है।,बोर्नविटा में 7 ग्राम प्रोटीन, 1.8 ग्राम फैट और 85.2 ग्राम कार्बोहाइड्रेट है, जिसमें से 32 ग्राम चीनी है। हॉर्लिक्स में 11 ग्राम प्रोटीन, 2 ग्राम फैट, और 79 ग्राम कार्बोहाइड्रेट है, जिसमें 13.5 ग्राम चीनी शामिल है।

द प्रिंट को न्यूट्रिशनिस्ट और न्यूट्राफाइ की फाउंडर प्रिया कथपाल ने बताया कि इन हेल्थ डिंक्स में मौजूद सारे न्यूट्रिशन से सबसे ज्यादा फायदा सिर्फ दूध से ही होता है। ये सारे प्रोडक्ट्स सिर्फ दूध के स्वाद को बढ़ाने का काम करते हैं। उन्होंने बताया कि ये मॉल्‍ट और सप्‍लीमेंट्स वाली डिंक्‍स को बच्चों को कभी नहीं देनी चाहिए क्योंकि इसमें शुगर की मात्रा बहुत होती है। बॉर्नविटा का कहना है कि इसे पीने से दिमाग, हड्डी का विकास होता है। वहीं, हॉर्लिक्स का कहना है कि इसे पीने से बच्चे लंबे और शक्तिशाली होते हैं। कॉम्प्लैन का दावा है कि इसे पीने से बच्चे जल्दी लंबे होते हैं। लेकिन प्रिया कथपाल का कहना है कि इन डिंक्स को हेल्दी नहीं बोलना चाहिए क्योंकि ये बच्चों के सेहत को बिगाड़ रहे हैं।

Related Post

घुसपैठियों पर ममता बनर्जी का दोहरा रवैया, पहले कहा था- निकाल बाहर करो

Posted by - August 1, 2018 0
नई दिल्ली। तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष और पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने असम में एनआरसी यानी नेशनल रजिस्टर…

अगर किसानों ने पराली जलाना बंद नहीं हुआ तो 2050 तक इतना बढ़ जाएगा प्रदूषण : स्टडी

Posted by - October 25, 2018 0
नई दिल्ली। पीजीआई के स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ और पंजाब यूनिवर्सिटी की एनवायरनमेंट स्टडीज की स्टडी में ये बात समाने…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *