अब अश्लील डांस नहीं करेंगी राधे मां, भक्तों की गोद में बैठने से भी की तौबा

54 0

नई दिल्ली।खुद को देवी का अवतार बताने वाली और अक्सर विवादों में रहने वाली धर्मगुरू राधे मां उर्फ सुखविंदर कौर की फिर से जूना अखाड़े में वापसी हो गई है। उन्होंने भक्तों की गोद में बैठकर अश्लील डांस करने के मामले में लिखित माफी मांगी है और कहा है कि भविष्य में दोबारा इस तरह की हरकत नहीं करेंगी।

जूना अखाड़े ने राधे मां का निलंबन रद्द करके न सिर्फ उन्हें बहाल कर दिया है बल्कि उनकी महामंडलेश्वर की पदवी भी लौटा दी है। राधे मां की तरफ से दिए गए माफीनामा के बाद अखाड़े ने यह फैसला लिया है। अखाड़े में बहाली और महामंडलेश्वर की पदवी वापस होने के बाद राधे मां अब न सिर्फ इसी महीने की 25 तारीख को प्रयागराज कुंभ मेले में होने वाली जूना अखाड़े की पेशवाई में शामिल हो सकेंगी, बल्कि कुंभ के तीनों शाही स्नान में भी अखाड़े की शोभा बढ़ाएंगी। जूना अखाड़े ने कुंभ में महामंडलेश्वर के तौर पर राधे मां को जमीन और दूसरी सुविधाएं भी मुहैया कराने का फैसला लिया है।

गौरतलब है कि मुंबई की चर्चित महिला संत राधे मां को वर्ष 2013 में हरिद्वार के जूना अखाड़े ने आधी रात में महामंडलेश्वर पद से नवाजा था। उन्हें यह पद स्वयं जूनापीठाधीश्वर अवधेशानंद गिरि ने प्रदान किया था।

सवेरे जैसे ही संत जगत में राधे मां को महामंडलेश्वर बनाने की सूचना मिली, हंगामा हो गया। देशभर से अखाड़ों में जूना अखाड़े के इस फैसले का विरोध शुरू हो गया। अधिकांश अखाड़ों का कहना था कि जिस महिला के चरित्र पर सवाल उठ रहे हों, उसे महामंडलेश्वर नहीं बनाया जा सकता। लंबे विचार विमर्श के बाद जूना अखाड़े के संरक्षक श्रीमहंत हरि गिरि और जूना पीठाधीश्वर अवधेशानंद गिरि ने राधे मां से महामंडलेश्वर पद मिलने के दो दिन बाद वह पद वापस ले लिया था।

Related Post

बिहार शिक्षा विभाग का कारनामा, कश्‍मीर को बताया अलग देश

Posted by - October 11, 2017 0
बिहार: बिहार एजुकेशन डिपार्टमेंट के एक्सपर्ट्स के मुताबिक कश्मीर भारत का हिस्सा नहीं बल्कि एक अलग देश है। राज्य बोर्ड…

किसानों को अब जहरीले कीटनाशकों के दुष्प्रभाव से बचाएगा नया Gel

Posted by - October 25, 2018 0
नई दिल्‍ली। ज्‍यादातर किसान खेतों में कीटनाशकों का छिड़काव करते समय कोई सुरक्षात्मक तरीका नहीं अपनाते हैं। यही कारण है…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *