IIT की रिसर्च : जिंदा रहना है तो सुनिए राग दरबारी

122 0

कानपुर। घर से ऑफिस और ऑफिस से घर…रोजाना कुछ ऐसे ही जिंदगी कट रही है। जो लोग गाना सुनने के शौकीन होते हैं वो सफर के दौरान अपने इस शौक को पूरा कर लेते हैं। कई लोग तनाव दूर करने के लिए भी गाने सुनना पसंद करते हैं। अब IIT कानपुर रिसर्च में इस बात का खुलासा हुआ है कि संगीत के राग दरबारी को सुनने से बीमारियों से निजात मिलती है और दिमाग भी तेज चलता है।

IIT कानपुर में शास्त्रीय संगीत की विभिन्न राग-रागनियों पर शोध जारी है। आपको जानकर हैरानी होगी दस मिनट राग दरबारी सुनने के बाद दिमाग के न्यूरॉन्स तेजी से सक्रिय हुए और दिमाग को एकाग्र किया। इससे सोचने-समझने की क्षमता बेहतर हुई और दिमाग की स्थिति भी पहले से बेहतर हुई। ह्यूमैनिटीज एंड सोशल साइंस के प्रोफेसर बृजभूषण, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग के प्रो. लक्ष्मीधर बेहरा और शोधार्थी आशीष गुप्ता इस रिसर्च टीम में शामिल हैं।

15 छात्रों पर स्टडी की गई। इन छात्रों ने पहले कभी राग दरबारी नहीं सुना था। 10 मिनट तक उन्हें राग सुनाया गया। फिर इन छात्रों का बारी-बारी से ईईजी टेस्ट हुआ।इलेक्ट्रो-एन्सेफलो-ग्राम (ईईजी) मस्तिष्क में विद्युत गतिविधि का मूल्यांकन करता है। मस्तिष्क कोशिका विद्युत आवेगों के माध्यम से एक दूसरे के साथ संवाद करती हैं। इस गतिविधि को ईईजी द्वारा रिकॉर्ड कर लिया जाता है। राग सुनने से पहले छात्रों के न्यूरॉन्स की जांच की गई। फिर 10 मिनट तक राग सुनाया गया। उस दौरान भी न्यूरॉन्स की जांच जारी रखी गई और राग समाप्त होने के बाद भी जांच की गई। तीनों जांच में नतीजे चौंकाने वाले आए।तीन चरणों में आई रिपोर्ट की ग्राफिकल मैपिंग की गई। राग सुनने के दौरान महज 100 सेकेंड में न्यूरॉन्स की सक्रियता चरम पर पहुंच गई थी। यह स्थिति राग सुनने तक (दस मिनट) बनी रही। उसके कुछ देर बाद न्यूरॉन्स पहले जैसे हो गए।

प्रो. बेहरा के मुताबिक, आमतौर पर दिमाग में न्यूरल फायरिंग सही तरीके से नहीं होती है। दिमाग के अगले हिस्से के न्यूरॉन्स मध्य हिस्से तक ही जा पाते हैं। पिछले हिस्से तक नहीं पहुंच पाते। यदि ये पीछे तक भी जाएं तो इससे सोचने, समझने की क्षमता काफी बढ़ जाती है। राग सुनने पर न्यूरॉन्स के पिछले हिस्से तक पहुंचने की संभावना बढ़ने लगती है।

Related Post

दिल्ली समेत उत्तर भारत के ज्यादातर शहरों में जबरदस्त प्रदूषण, सांस लेना दुश्वार

Posted by - November 12, 2018 0
नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली समेत उत्तर भारत के ज्यादातर शहरों में प्रदूषण का स्तर खराब और बहुत खराब…

मोतिहारी में भीषण हादसा, बस पलटने के बाद लगी आग, 27 यात्रियों की मौत

Posted by - May 3, 2018 0
मुजफ्फरपुर से दिल्ली जा रही थी बस, बढ़ सकती है मृतकों की संख्‍या, सीएम नीतीश कुमार ने जताया दुख पटना। मुजफ्फरपुर…

अनूठा प्रयोग : हफ्ते में 4 दिन काम कराया तो नौकरी और जीवन में बढ़ी संतुष्टि

Posted by - July 21, 2018 0
न्यूजीलैंड की एक कंपनी ने किया अनोखा प्रयोग, कर्मचारियों के तनाव में आई 7% की गिरावट ऑकलैंड। न्यूजीलैंड की एक…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *