यूपी के सरकारी स्कूलों में नहीं आते हैं बच्चे, पढ़ाने से ज्यादा रोजी कमाने पर जोर देते हैं पैरेंट्स

74 0

बहराइच। जिले के सरकारी प्राथमिक स्कूलों में पढ़ने बच्चे नहीं आ रहे। नवाबगंज ब्लॉक के गांव भगवानपुर करिंगा के प्राथमिक स्कूल में अभिज्ञा फाउंडेशन की टीम ने दौरे में पाया कि बच्चों के माता-पिता उन्हें पढ़ने के लिए भेजने से बेहतर रोजी कमाने का काम सिखाना मानते हैं।

गांव में जहां दिन में रामलीला का आयोजन होता है और शाम को नाच-गाना का प्रदर्शन किया जाता है। इस मेले का असर स्कूल के बच्चों पर ज्यादा नजर आया। गांव के एक बच्चे ने बताया कि वो सुबह से नाई का काम कर रहा है। इस काम में उसे पैसे नहीं मिलते हैं। जब फसलों का सीजन आता है तो अनाज मिल जाता है।

अभिज्ञा फाउंडेशन की टीम ने गांव का दौरा किया तो पता चला कि जहां रोजाना स्कूल में बच्चे 60 से 75 प्रतिशत रहते थे वह संख्या मेले की वजह से घटकर 15 प्रतिशत हो गई। अभिज्ञा फाउंडेशन के फाउंडर भारतेंदु त्रिवेदी ने बच्चों के माता-पिता से कारण जानने के लिए उनसे बातचीत की। उन्होंने बच्चों के भविष्य और पढ़ाई को लेकर माता-पिता को जागरूक किया।

अभिज्ञा फाउंडेशन प्राथमिक शिक्षा के क्षेत्र में सुधार, माता-पिता एवं बच्चों, माता-पिता एवं अध्यापकों के बीच के संवाद अंतर को कम करने की दिशा में प्रयासरत है। इस उद्देश्य की प्राप्ति के लिए अपने पायलट प्रोजेक्ट के लिए अभिज्ञा फाउंडेशन ने भगवानपुर करिंगा एवं पचपकड़ी गांव को चुना है।

जैसा कि अभिज्ञा फाउंडेशन शिक्षा के क्षेत्र में कार्य करने वाली एक गैर-लाभकारी संस्था है इसलिए संस्था का मिशन है शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार करके बच्चों को अपने साथियों के बीच और बाहरी दुनिया में बेहतर प्रतिस्पर्धा करने के लिए तैयार करना जिससे देश आने वाले समय में कार्य करने वाले युवा-वर्ग, जो कि 2030 में पूरे विश्व में भारत में सर्वाधिक होंगे, का देश के विकास में सफलतम उपयोग कर सके।

Related Post

ग्रेटर नोएडा में अंतरराष्ट्रीय मुक्केबाज जितेंद्र मान की गोली मारकर हत्या

Posted by - January 13, 2018 0
हत्‍या के बाद 48 घंटे तक ग्रेटर नोएडा की एवीजे हाइट्स सोसायटी के फ्लैट में पड़ा रहा शव नोएडा। अंतरराष्ट्रीय…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *