अब सिर्फ सोचने से बदल जाएंगे टीवी चैनल, वैज्ञानिक विकसित कर रहे तकनीक

300 0

सियोल। मान लीजिए, आप अपने ड्राइंग रूम में बैठकर टीवी देख रहे हैं और आपने सोचा कि मुझे अब स्‍पोर्ट्स चैनल देखना है। आपके सोचते ही अपने आप टीवी का चैनल बदल जाता है। आप कहेंगे कि ऐसा होना तो संभव ही नहीं है, लेकिन टेलीविजन की दुनिया में अब ऐसा ही एक इनोवेशन होने जा रहा है। जी हां, दक्षिण कोरिया की जानी-मानी इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी सैमसंग एक ऐसे स्मार्ट टीवी पर काम कर रही है, जिसे इंसान अपने दिमाग से कंट्रोल कर सकेगा।

अगले साल होगा ट्रायल

सैमसंग इस प्रोजेक्ट पर पिछले तीन महीनों से काम कर रहा है और अगले साल स्विट्जरलैंड में इसका ट्रायल शुरू होने की उम्मीद है। सैमसंग ने इसके लिए स्विट्जरलैंड के इकोल पॉलिटेक्निक फेडरल डी-लॉसैन (EPFL) के सेंटर ऑफ न्यूरोप्रोस्थेटिक्स के साथ हाथ मिलाया है। इस प्रोजेक्‍ट को ‘प्रोजेक्ट प्वॉइंट्स’ नाम दिया गया है। सैमसंग का कहना है कि इस टेक्नोलॉजी की मदद से सिर्फ सोचकर ही टीवी चैनल को बदला जा सकेगा। इतना ही नहीं, सिर्फ सोचने भर से टीवी के वॉल्यूम को भी एडजस्ट किया जा सकेगा। सैमसंग ने डेवलपर कॉन्फ्रेंस में इसका प्रोटोटाइप भी पेश किया था।

कैसे काम करेगा टीवी ?

सैमसंग की इस टेक्नोलॉजी में ब्रेन कम्प्यूटर इंटरफेस (BCI) का इस्तेमाल किया जाएगा जो व्यूअर को टीवी सेट से जोड़ेगा। इस बीसीआई में 64 सेंसर के अलावा एक आई-मोशन ट्रैकर लगा होगा। दरअसल, यह एक तरह का हेडसेट है। यह इंसानी दिमाग से निकलने वाली तरंगों के जरिए उनके सुझावों को समझेगा और फिर आंखों के मूवमेंट से इन सुझावों की पुष्टि करेगा। इसी की मदद से टीवी को कंट्रोल किया जाएगा।

मानव मस्तिष्‍क को समझने का प्रयास

दरअसल, इस टेक्नोलॉजी पर काम करने के लिए वैज्ञानिक इंसानी दिमाग से निकलने वाली तरंगों को भी समझने की कोशिश कर रहे हैं। वैज्ञानिक यह पता लगाने की कोशिश रहे हैं कि टीवी देखते समय इंसान का दिमाग क्या सोचता है और किस तरह व्यवहार करता है।

टीवी से कर पाएंगे बात भी

सैमसंग और EPFL एक ऐसी टेक्नोलॉजी पर भी काम कर रहे हैं, जिसकी मदद से यूजर अपने दिमाग से निकलने वाली तरंगों की मदद से टीवी से बात कर सकते हैं। इस टेक्नोलॉजी से सबसे ज्यादा फायदा दिव्यांगों को होगा। सैमसंग के अलावा और भी कंपनियां ब्रेन कम्प्यूटर इंटरफेस पर काम कर रही हैं, जो मशीन के साथ बातचीत करने में इंसानों की मदद करेगी।

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *