Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

यूपी : मिड-डे मील के नाम पर बच्चों को परोसा जा रहा स्तरहीन खाना, ऐसे न मिलेगी पौष्टिकता न बढ़ेगी उपस्थिति

227 0

बहराइच। सरकारी स्कूलों में मिड डे मील स्कीम लागू है, लेकिन बच्चों को परोसे जाने वाले खाने को लेकर अक्सर शिकायतें आती हैं। अभिज्ञा फाउंडेशन की टीम ने यूपी के बहराइच के नवाबगंज ब्लॉक के गांव भगवानपुर करिंगा के सरकरी स्कूल का दौरा किया। यहां उन्होंने बच्चों के साथ मिड-डे मील भी खाया।

अभिज्ञा फाउंडेशन के फाउंडर भारतेंदु त्रिवेदी और प्रोग्राम मैनेजर पावन मिश्रा ने बच्चों को मिलने वाले मिड-डे मील की गुणवत्ता व शुद्धता की जांच करने के लिए उनके साथ जमीन पर बैठकर भोजन किया। उन्होंने बताया कि खाने में तहरी बनी थी जो कि स्तरहीन थी। तहरी में सिर्फ आलू और चावल ही नजर आ रहे थे। खाने में तेल की मात्रा बहुत कम थी । तहरी में ढंग से हल्दी तक नहीं थी और मिर्च ज्यादा थी। खाना इतना सूखा हुआ था कि निगलने में दिक्कत हो रही थी।

अभिज्ञा फाउंडेशन की टीम ने इस बारे में जब स्कूल के प्रिंसिपल अरूण कुमार पाठक से बात की तो उन्होंने बताया कि जो मिलता है वही बनाया जाता है। स्कूल के रसोइया का भी कुछ ऐसा ही कहना था। टीम ने गांव के प्रधान से भी इस बारे में बात करने की कोशिश की, लेकिन उस समय वो गांव में मौजूद नहीं थे।

गौरतलब है कि बच्चों के खाने की इस योजना पर सरकार ने वित्तीय वर्ष 2018-19 में करीब साढ़े दस हजार करोड़ की राशि का प्रावधन कर रखा है। जिसमें करीब 12 करोड़ बच्चों को स्कूलों में पौष्टिक और गर्म खाना देने की व्यवस्था है। इस योजना को लागू करने के पीछे सरकार का लक्ष्य था कि सरकारी स्कूलों में छात्रों की हाजिरी बढ़े, लेकिन ये योजना असरदार साबित होती नजर नहीं आ रही है।

Related Post

लखनऊ का विकासनगर हो रहा है लगातार प्रदूषित, इंदिरानगर में सबसे ज्यादा दूषित हवा

Posted by - November 2, 2018 0
लखनऊ। लखनऊ का विकासनगर लगातार प्रदूषित हो रहा है। यहां हवा में सबसे ज्यादा प्रदूषण मापा गया है। बीते 10…

कश्मीर में प्रदर्शनों से होने वाले नुकसान पर अब 5 साल की जेल

Posted by - October 27, 2017 0
जम्‍मू-कश्‍मीर में प्रदर्शनकारियों पर नकेल कसने के लिए लाया गया अध्‍यादेश श्रीनगर. अब जम्मू-कश्मीर में हड़ताल-प्रदर्शन करने, पब्लिक-प्राइवेट प्रॉपर्टी को नुकसान…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *