मेहनत को ही तरक्की का रास्ता मानते हैं ज्यादातर लोग, Linkedin के सर्वे के ये हैं नतीजे

32 0

लंदन। दुनिया के ज्यादातर लोग अब भी कड़ी मेहनत को ही तरक्की का रास्ता मानते हैं। Linkedin की ओर से जारी Oppurtunity Index Research रिपोर्ट से ये बात सामने आई है।

9 प्रमुख देशों के 11 हजार लोगों पर किए गए सर्वे में ज्यादातर लोगों ने बताया कि कड़ी मेहनत से ही तरक्की मिल सकती है। वहीं, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर, मलेशिया और फिलीपींस के लोगों ने तरक्की के बारे में सवाल पूछने पर बताया कि काम और निजी जिंदगी में संतुलन बनाया जाए, तो इससे तरक्की के रास्ते बेहतर तरीके से खुलते हैं।

Linkedin की रिपोर्ट कहती है कि 22 फीसदी लोगों ने प्रोफेशनल नेटवर्क तक पहुंच की कमी को तरक्की की राह में रोड़ा माना। जबकि, 19 फीसदी के मुताबिक नौकरियों की कमी से उनकी तरक्की रुक रही है। 18 फीसदी लोगों ने बताया कि स्किल की कमी से तरक्की नहीं कर पा रहे। वहीं, 18 फीसदी ने ही काम को लेकर गाइडेंस की कमी को भी तरक्की की राह में बाधा बताया। रिपोर्ट में कहा गया है कि 30 फीसदी लोगों ने आर्थिक दिक्कतों को चिंता की सबसे बड़ी वजह माना है।

काम को लेकर सबसे ज्यादा आशावान लोग इंडोनेशिया में मिले। यहां करियर में ग्रोथ, स्किल डेवलपमेंट और कमाई को लेकर भी कामगारों में उम्मीद की किरण दिखी। जबकि, सिंगापुर, ऑस्ट्रेलिया, हांगकांग और जापान जैसे तकनीकी रूप से विकसित देशों में लोग भविष्य को लेकर कम आशावान हैं। वजह इन देशों की अर्थव्यवस्था है। जिसकी वजह से ज्यादातर लोगों के पास एक ही काम बचा है या उनके स्किल के मुताबिक काम नहीं मिलता है। करियर में संभावनाओं को लेकर भरोसा जताने वाले कामगारों में भारत के लोग दूसरे नंबर पर रहे। चीन तीसरे नंबर पर है।

Related Post

हवा की सेहत अब भी खराब, एम्स में 20 फीसदी बढ़ी सांस की समस्याओं के मरीजों की संख्या

Posted by - December 26, 2018 0
नई दिल्ली। वायु प्रदूषण का खतरनाक असर दिल्ली वालों के स्वास्थ्य पर दिखाई देने लगा है। मेडिकल इंस्टिट्यूट एम्स के…

नरोदा पाटिया मामला : गुजरात HC ने बाबू बजरंगी की सजा रखी बरकरार, कोडनानी निर्दोष करार

Posted by - April 20, 2018 0
बाबू बजरंगी को थोड़ी राहत, ताउम्र उम्रकैद की सजा को घटाकर 21 साल कैद में तब्‍दील किया अहमदाबाद। गुजरात दंगों…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *