महिलाओं के लिए उनका घर ही है सबसे खतरनाक जगह, परिवार के लोग ही कर देते हैं मर्डर

46 0

टेक्सास। औरतों को घर की लक्ष्मी माना जाता है लेकिन उनका घर ही उनके लिए खतरनाक साबित हो रहा है। संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में ये बात सामने आई है कि साल 2017 में दुनियाभर में जितनी महिलाओं की हत्या हुई, उनमें आधे से ज्यादा मामलों में गुनहगार उनके पार्टनर या परिवार के सदस्य ही थे।

संयुक्त राष्ट्र के ड्रग्स और क्राइम विभाग (यूएनओडीसी) ने इंटरनेशनल डे फॉर द एलिमिनेशन ऑप वॉयलेंस अगेंस्ट वूमेन पर आंकड़े जारी किए हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि 2017 में हर दिन 137 महिलाओं की उनके परिवार के सदस्यों ने ही हत्या कर दी।

रिपोर्ट में बताया गया कि 2017 के दौरान दुनियाभर में 87 हजार महिलाओं की हत्या हुई। इनमें करीब 50 हजार महिलाओं का कत्ल उनके पार्टनर या परिवार के सदस्यों ने किया। 50 हजार में भी करीब 30 हजार महिलाओं को उनके पति या प्रेमी ने मार डाला। यूएन के मुताबिक, हर एक घंटे में 6 महिलाओं का कत्ल उनके करीबी कर देते हैं। यूएनओडीसी के मुताबिक, पूरी दुनिया में एक लाख महिलाओं में से 1.3% महिलाओं की हत्या हो जाती है। अफ्रीका और अमेरिका में करीबियों के हाथों महिलाओं की हत्या सबसे ज्यादा होती है।

यूएनओडीसी के प्रमुख यूरी फेडोतोव ने बताया कि महिलाओं की हत्या की वजह लैंगिक असमानता, भेदभाव और रूढ़िवादी परंपराएं हैं। महिलाओं को इस तरह के हिंसा का सामना तब करना पड़ता है जब घर में उनके पार्टनर के साथ रिश्तों में असंतुलन होने लगता है।

Related Post

राफेल डील : पूर्व राष्ट्रपति ओलांद बोले, – भारत ने की थी रिलायंस की सिफारिश, फ्रांस का इनकार

Posted by - September 22, 2018 0
पेरिस। राफेल लड़ाकू विमान खरीद पर देश में छिड़ी सियासी जंग के बीच शुक्रवार को एक नया मोड़ आ गया। फ्रांस…

कीमोथेरेपी करा रहीं सोनाली बेंद्रे को ये हुई थी दिक्कतें, उनकी तरह आप भी ऐसे करें सामना

Posted by - November 12, 2018 0
नई दिल्ली। कैंसर के इलाज के लिए डॉक्टर कीमोथेरेपी कराने की सलाह देते हैं। मशहूर सिने एक्टर सोनाली बेंद्रे भी…

रेप केस में आसाराम समेत 3 लोग दोषी करार, जोधपुर के कोर्ट ने सुनाया फैसला

Posted by - April 25, 2018 0
जोधपुर। रेप केस में जोधपुर की निचली अदालत ने आसाराम को दोषी करार दिया है। जज मधुसूदन शर्मा ने जोधपुर सेंट्रल…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *