Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

कृत्रिम सूरज बनाने में जुटा चीन, असली सूरज से होगा 6 गुना ज्यादा गरम

86 0

बीजिंग। चीन के वैज्ञानिक इन दिनों एक कृत्रिम सूरज का बनाने की तैयारी में जुटे हैं। इसके पीछे चीनी वैज्ञानिकों का मकसद स्‍वच्‍छ ऊर्जा पैदा करना है। खास बात यह है कि यह कृत्रिम सूरज असली सूरज के मुकाबले 6 गुना ज्यादा गर्म होगा।

वैज्ञानिक कर रहे परीक्षण

चीन की एकेडमी ऑफ साइंस से जुड़े इंस्टीट्यूट ऑफ प्लाजमा फिजिक्स के मुताबिक, कृत्रिम सूरज की टेस्टिंग जारी है। इसे एक्सपेरिमेंटल एडवांस्ड सुपरकंडक्टिंग टोकामक (EAST) नाम दिया गया है। वैज्ञानिकों का कहना है कि इसे बिल्कुल असली सूरज की तरह डिजाइन किया गया है। यह सौर मंडल के मध्य में स्थित किसी तारे की तरह ही ऊर्जा का भंडार उपलब्ध कराएगा। फिलहाल इस मशीन को चीन के अन्हुई प्रांत स्थित साइंस द्वीप में रखा गया है।

मशीन चालू करने का खर्च 11 लाख रुपये

दरअसल, ईस्ट को एक मशीन के जरिए पैदा किया जाता है। इस मशीन का साइज बीच में खोखले गोल बॉक्स (डोनट) की तरह है। इसमें न्यूक्लियर फ्यूजन (परमाणु के विखंडन) के जरिए गरमी पैदा की जा सकती है। हालांकि, इसे एक दिन के लिए चालू करने का खर्च 15 हजार डॉलर (करीब 11 लाख रुपए) है। बता दें कि जहां असली सूरज करीब 1.50 करोड़ डिग्री सेल्सियस तक गरम होता है, वहीं चीन का यह नया सूरज 10 करोड़ डिग्री सेल्सियस तक की गरमी पैदा कर सकेगा।

ऊर्जा का होगा वैकल्पिक स्रोत

ईस्ट को मुख्य तौर पर न्यूक्लियर फ्यूजन के पीछे का विज्ञान समझने और उसे पृथ्वी पर ऊर्जा के नए विकल्प के तौर पर इस्तेमाल करने के लिए बनाया गया है। आने वाले समय में यह तकनीक स्वच्छ ऊर्जा पैदा करने का अहम स्रोत साबित हो सकती है। दरअसल, दुनिया में इस वक्त न्यूक्लियर फिजन (परमाणु संलयन) के जरिए ऊर्जा पैदा की जा रही है। हालांकि, इसकी वजह से पैदा होने वाला जहरीला न्यूक्लियर कचरा इंसानों के लिए काफी खतरनाक है।

कृत्रिम चांद भी बनाएगा चीन

बता दें कि चीन पहले ही रोशनी के नए स्रोत के तौर पर आसमान पर कृत्रिम चांद लगाने की बात कह चुका है। इसके जरिए वैज्ञानिक रात को देश की सड़कों को रोशन करना चाहते हैं। इसके लिए कुछ बड़े सैटेलाइटों का इस्तेमाल किया जाएगा जो ऊर्जा बचाने का भी काम करेगा। इसे वर्ष 2022 तक लॉन्च किया जा सकता है।

Related Post

भोपाल पुलिस बताने को तैयार नहीं, कहां से दबोचा गया 33 ट्रक ड्राइवरों का हत्यारा

Posted by - September 12, 2018 0
विश्वजीत भट्टाचार्य लखनऊ/भोपाल। भोपाल पुलिस ने बीते दिनों 33 ट्रक ड्राइवरों की हत्या के आरोपी आदेश खामरा को पकड़ा है। मीडिया…

गवर्नर बोले – घोटाले रोकने के लिए RBI के पास पर्याप्त शक्तियां नहीं

Posted by - March 15, 2018 0
उर्जित पटेल ने की केंद्रीय बैंक को और अधिक नियामकीय शक्तियां देने की मांग कहा – मौजूदा व्यवस्था धोखाधड़ी करने…

गर्लफ्रेंड ने कहा – मेरे बाप को मार दो तो शादी करूंगी, जानिए उसने क्या किया

Posted by - April 17, 2018 0
शामली। पश्चिमी यूपी के शामली में गर्लफ्रेंड से शादी करने के लिए 10वीं क्लास में पढ़ने वाले लड़के ने लड़की…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *