Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

अमेरिकी वैज्ञानिकों ने खोजी ब्रेन कैंसर की नई दवा, कोशिकाओं को बढ़ने से रोकेगी

140 0

वॉशिंगटन। कैंसर को एक जानलेवा बीमारी माना जाता है, क्‍योंकि अक्‍सर इसका पता बहुत देर से चलता है। लेकिन अब ब्रेन कैंसर के मरीजों के लिए एक खुशखबरी है। अमेरिकी वैज्ञानिकों ने एक ऐसी दवा ईजाद की है जो सबसे खतरनाक किस्म के ब्रेन कैंसर ‘ग्लिओब्लास्टोमा’ को फैलने से रोक सकती है।

किसने किया शोध ?

वर्जीनिया पॉलिटेक्निक इंस्‍टीट्यूट और अमेरिका में स्टेट यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने इस दवा की खोज की है। उन्‍होंने इस दवा का नाम इस दवा का नाम ‘एएमडी-3100’ रखा है। उन्होंने इस दवा का इस्तेमाल किया और पाया कि वह कैंसर कोशिकाओं के बढ़ने की प्रक्रिया को रोकने में सक्षम है।

क्‍या कहना है शोधकर्ताओं का ?

शोधकर्ताओं ने बताया कि हमारे शरीर में जो ऊतक होते हैं, उनका ज्यादातर हिस्सा द्रव्‍य के रूप में होता है। यह द्रव्य कोशिकाओं के इर्द गिर्द घूमता है और शरीर के सामान्य काम के लिए आवश्यक होता है। कई मामलों में यह द्रव्य नुकसान भी पहुंचा सकता है। ‘ग्लिओब्लास्टोमा’ में इस द्रव्य का दबाव बहुत अधिक हो जाता है, जिसके कारण द्रव्य और तेजी से घूमता है और कैंसर कोशिकाओं पर फैलने के लिए दबाव बनाता है। शोधकर्ताओं के मुताबिक, कैंसर के सामान्य उपचार में संभव है कि यह द्रव्य और तेजी से घूमने लगे। यह नई दवा इस द्रव्‍य के घूमने पर रोक लगाती है।

क्‍या होता है ब्रेन कैंसर

ब्रेन या मस्तिष्‍क हमारे शरीर का सबसे महत्‍वपूर्ण हिस्‍सा है। ब्रेन कैंसर मस्तिष्क की ऐसी बीमारी है, जिसमें मस्तिष्क के ऊतकों में कैंसर कोशिकाएं पैदा होने लगती हैं। कैंसर की ये कोशिकाएं मस्तिष्‍क में ऊतकों के समूह या एक ट्यूमर के रूप में उभरती हैं, जो मस्तिष्‍क के कार्यों में बाधा उत्‍पन्‍न करती हैं। जैसे मांसपेशियों के नियंत्रण में परेशानी, सुन्‍नता का अनुभव, झुनझुनी या बोलने में परेशानी होना। ब्रेन कैंसर की अवस्थाओं को चार हिस्सों में बांटा गया है, लेकिन चौथे स्‍टेज में ब्रेन कैंसर घातक हो जाता है। फिर इसका इलाज बहुत मुश्किल है।

Related Post

सत्यमेव जयते का दूसरा गाना हुआ रिलीज, रोमांटिक अंदाज में नजर आए जॉन-आएशा

Posted by - July 12, 2018 0
मुंबई .जॉन अब्राहम की अपकमिंग फिल्म सत्यमेव जयते का दूसरा गाना “पानियों सा” रिलीज कर दिया गया है. इसे टी-सीरीज…

AI पर रिसर्च करेगा बेंगलुरु IIIT का छात्र, गूगल ने दिया 1.2 करोड़ का पैकेज

Posted by - July 8, 2018 0
बेंगलुरु। बेंगलुरु के  इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंफोर्मेशन एंड टेक्नोलॉजी (IIITB) के एक छात्र को गूगल ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) पर…

तो इसलिए बढ़ता है पेट में फैट, रोजाना Vitamin D की कैप्सूल खाने से दूर होगा बच्चों में मोटापा

Posted by - October 3, 2018 0
एथेंस (ग्रीस)। शरीर को तंदरुस्त रखने के लिए कैल्शियम और प्रोटीन की तरह विटामिन डी भी अहम भूमिका निभाता है।…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *