Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

WHO Report : शराब ने एक साल में पूरी दुनिया में ली 30 लाख लोगों की जान

205 0

नई दिल्‍ली। आपने शराब और इसके दुष्प्रभावों के बारे में सुना होगा। केंद्र और राज्य सरकार भी शराब के सेवन के दुष्प्रभावों के बारे में जागरूकता फैलाती हैं, लेकिन शराब के अत्यधिक सेवन के कारण हुई मौतों से संबंधित जो आंकड़े सामने आए हैं, उन्‍हें जानने के बाद आप चौंक जाएंगे। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने पिछले हफ्ते जारी रिपोर्ट में कहा है कि वर्ष 2016 में शराब के अत्यधिक सेवन के कारण 30 लाख से अधिक लोगों की मौत हो गई।

हर 20 में से 1 मौत शराब से 

WHO की ग्‍लोबल स्‍टेटस रिपोर्ट ऑन एल्‍कोहल और हेल्‍थ 2018 की रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया में शराब से होने वाली बीमारियों का बोझ लगातार बढ़ता जा रहा है। इस नई रिपोर्ट में, संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य एजेंसी ने कहा कि लगभग 237 मिलियन पुरुषों और 4.6 मिलियन महिलाओं को शराब से संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ा। WHO की रिपोर्ट के मुताबिक, दुनिया में होने वाली हर 20 में से 1 मौत शराब के कारण हुई। इनमें से अधिकतर मामले यूरोप और अमेरिका में देखे गए थे। कुल मिलाकर कहें तो वैश्विक बीमारी के बोझ का 5% से अधिक का कारण शराब से होने वाली बीमारियां हैं।

किन कारणों से होती है मौत ?

रिपोर्ट के अनुसार, शराब से होने वाली कुल मौतों में 28% चोट लगने के कारण होती हैं। इनमें सड़क हादसे, खुद को चोट पहुंचाना और हिंसा करना शामिल है। 21% शराब से होने वाली पेट व लिवर की समस्या, 19% शराब के बाद होने वाली दिल की बीमारियों और बाकी अन्य कैंसर, मेंटल डिसऑर्डर और दूसरी बीमारियों के कारण मारे गए। डॉक्‍टरों का कहना है कि एल्‍कोहल की वजह से लिवर सिरोसिस और कुछ कैंसर सहित 200 से अधिक बीमारियां होती हैं।

भारत में हर साल 2.6 लाख मौतें

WHO के मुताबिक, भारत में सालाना 2.6 लाख लोग शराब से होने वाली लीवर की बीमारियों और हादसों में मारे जाते हैं। शराब के चलते सर्वाधिक मौतें सड़क हादसों में होती हैं। वर्ष 2016 में करीब 1 लाख लोग शराब के प्रभाव में वाहन चलाते वक्त मारे गए, जबकि 30 हजार ऐसे रहे, जिन्हें शराब के कारण कैंसर हुआ था। वर्ष 2016 में करीब 1.4 लाख लोगों की मौत लीवर फेल होने के कारण हुई। इंडियास्पेंड ने वर्ष 2016 में राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) के आंकड़ों के आधार पर जारी अपनी एक रिपोर्ट में खुलासा किया है कि भारत में शराब पीने की वजह से प्रतिदिन 15 लोगों या हर 96 मिनट में एक व्यक्ति की मौत हो रही है।

यूरोप में सबसे ज्‍यादा शराब की खपत

रिपोर्ट के मुताबिक, दुनिया में 2.3 अरब लोग शराब पीते हैं। इनमें से आधी से ज्यादा आबादी दुनिया के सिर्फ तीन हिस्सों में मौजूद है। यूरोप में सबसे ज्यादा प्रति व्यक्ति शराब की खपत है। दुनिया में लगभग 27% से ज्यादा लोग शराब पीते हैं, जिनकी उम्र 15 से 19 साल के बीच है। इस वर्ग में सबसे ज्यादा 44% यूरोपीय, 38% अमेरिकी और 38% पश्चिमी पैसेफिक के युवा शामिल हैं।

Related Post

एयरपोर्ट पर मांगा प्रेग्नेंसी का प्रूफ, नहीं दिया तो उतरवा लिये महिला के कपड़े

Posted by - June 28, 2018 0
महिला के पति ने दर्ज कराई आपत्ति, सीआईएसएफ ने चेकिंग करने वाली अफसर को हटाया गुवाहाटी। असम में एयरपोर्ट पर…

इंदौर में शोहदों ने बीच सड़क युवती की खींची स्कर्ट, सीएम ने दिए जांच के आदेश

Posted by - April 23, 2018 0
स्‍कूटर सवार युवती सड़क पर गिरकर हुई घायल, ट्विटर पर मुख्‍यमंत्री से की शिकायत इंदौर। इंदौर मध्‍य प्रदेश की आर्थिक…

डेटा चोरी : मार्क जुकरबर्ग ने मानी गलती, केंद्र ने दी थी तलब करने की धमकी

Posted by - March 22, 2018 0
न्यूयॉर्क/नई दिल्ली। डेटा चोरी मामले में चार दिन बाद आखिरकार फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने चुप्पी तोड़ी है। उन्होंने…

इस देश में बिना सुरक्षा के सड़कों पर घूमते हैं राष्ट्रपति, सिर्फ 33 है यहां की आबादी

Posted by - September 6, 2018 0
नेवादा। भारत में प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति को प्रोटोकॉल के तहत कई प्रकार की सुरक्षा दी जाती है। इनमें सुरक्षा एजेंसियां,…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *