WORLD TOILET DAY: भारत में 10 फीसदी से ज्यादा परिवारों के पास टॉयलेट नहीं

47 0

नई दिल्ली। आज वर्ल्ड टॉयलेट डे है। इसके साथ ही केंद्र और तमाम राज्यों की बीजेपी शासित सरकारों की ओर से ओडीएफ यानी खुले में शौच मुक्त भारत के लिए चलाए जा रहे अभियान पर भी नजर जाती ही है। इस अभियान के तहत हर घर में टॉयलेट बनाने का लक्ष्य 30 नवंबर 2018 तक हासिल करना था, लेकिन हालत ये है कि 19 नवंबर हो चुकी है और देश के 10.6 फीसदी परिवारों के पास अपना टॉयलेट तक नहीं है।

आंकड़े बताते हैं कि टॉयलेट विहीन सबसे ज्यादा परिवार बिहार के हैं। वहीं, यूपी दूसरे, ओडिशा तीसरे और पश्चिम बंगाल चौथे स्थान पर है। ऐसे में साफ है कि 30 नवंबर तक खुले में शौच मुक्त भारत का सपना फिलहाल साकार नहीं हो सकेगा। नीचे हम बता रहे हैं कि किस राज्य में कितने परिवार टॉयलेट से महरूम हैं।

बिहार- 62,61,617
यूपी- 36,04,769
ओडिशा- 32,37,086
पश्चिम बंगाल- 7,83,673
झारखंड- 6,38,350
असम- 5,75,064
तेलंगाना- 5,30,838
कर्नाटक- 5,15,675
मध्यप्रदेश- 4,02,567
त्रिपुरा- 1,63,496
जम्मू-कश्मीर- 64,430
गोवा- 43,595
मणिपुर- 39,637
नगालैंड- 11,127

Related Post

अभी कुछ बोल नहीं पाते, लेकिन फुल्टू गुंडई कर रहे हैं सैफ-करीना के तैमूर!

Posted by - June 25, 2018 0
मुंबई। बॉलीवुड स्टार्स सैफ-करीना से कहीं ज्यादा पॉपुलर है उनका छोटा बेटा तैमूर अली खान। तैमूर की लोकप्रियता दिन पर दिन…

भड़काऊ भाषण प्रकरण : सुप्रीम कोर्ट ने पूछा, क्यों न चले योगी आदित्यनाथ पर मुकदमा ?

Posted by - August 20, 2018 0
सर्वोच्‍च अदालत ने उत्‍तर प्रदेश सरकार को जारी किया नोटिस, चार हफ्ते में मांगा जवाब नई दिल्ली। 11 साल पुराने भड़काऊ…

दूसरों के मुकाबले बुद्धिमान और हेल्दी होती हैं बड़े बट्स वाली महिलाएं

Posted by - August 31, 2018 0
नई दिल्ली। आजकल महिलाएं खूबसूरत दिखने के लिए कई तरह के ब्यूटी ट्रीटमेंट और सर्जरी का सहारा ले रही हैं।…

प्रणब मुखर्जी ने बताया, जब ममता के कारण उन्हें महसूस हुई बेइज्जती

Posted by - October 18, 2017 0
पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने ममता बनर्जी को जन्मजात विद्रोही करार दिया और उन क्षणों को याद किया जब वह…

ब्रिक्स देशों के 20 शीर्ष विश्‍वविद्यालयों में 4 भारतीय

Posted by - November 23, 2017 0
नई दिल्ली । ब्रिक्स देशों (भारत, चीन, रूस, ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका) के शीर्ष 20 विश्वविद्यालयों में चार भारतीय संस्थान…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *