इस एक घंटे के दौरान होती हैं सबसे ज्यादा मौतें, साइंस ने भी माना सबसे खतरनाक होता है ये समय

94 0

नई दिल्ली। दुनिया की कई संस्कृतियों और धार्मिक मान्यताओं के हिसाब से रात का तीसरा पहर बहुत खतरनाक माना जाता है। तीसरा पहर यानि रात 3 से सवेरे 6 बजे के बीच का वक्त।इसमें भी सवेरे 3 से 4 के बीच का वक्त सबसे ज्यादा खतरनाक माना जाता है।साइंस भी मानता है कि इस दौरान इंसान का शरीर सबसे ज्यादा कमजोर होता है।

देश-विदेश में हुई कई स्टडी में भी इस बात पर सहमती दर्ज करती हैं। इस दौरान सबसे ज्यादा मौतें अस्थमा के अटैक की वजह से होती हैं क्योंकि दिन के टाइम की अपेक्षा तड़के सुबह के 3 से 4 के बीच अस्थमा के अटैक की संभावना 300 गुना ज्यादा हो जाती है। इसका कारण बताया जाता है कि इस वक्त एड्रेनेलिन और एंटी-इंफ्लेमेटरी हार्मोंस का उत्सर्जन शरीर में बहुत घट जाता है, जिससे शरीर में श्वसनतंत्र बहुत ज्यादा सिकुड़ जाता है। दिन के मुताबिक इस वक्त ब्लडप्रेशर भी सबसे कम होता है। इसे भी एक वजह माना जा सकता है कि सवेरे 4 बजे सबसे ज्यादा लोगों की मौतें होती हैं।

एक रिसर्च यह भी कहता है कि 14 फीसदी लोगों अपने जन्मदिन के दिन ही मरते हैं, वहीं 13 फीसदी लोग कोई बड़ी पेमेंट पाने के बाद मरने की हालत में होते हैं। डॉक्टरों का मानना है कि सुबह के समय कोर्टिसोल हार्मोन का स्त्राव तेजी से होता है जिसकी वजह से खून में थक्के जमने और अटैक पड़ने का खतरा ज्यादा होता है।

Related Post

रियल लाइफ में इतनी ग्लैमरस है स्त्री की ‘चुड़ैल’, रंजनीकांत के साथ भी कर चुकी हैं काम

Posted by - September 13, 2018 0
मुंबई। एक्टर राजकुमार राव और श्रद्धा कपूर की फिल्म स्त्री बॉक्स ऑफिस पर शानदार कमाई कर रही है। फिल्म के…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *