विशेषज्ञ बोले – रोज दही खाएंगे तो दिल की बीमारियों का खतरा हो जाएगा कम

137 0

वॉशिंगटन। हाल ही में किए गए एक शोध में यह बात सामने आई है कि दही का सेवन करने से दिल की बीमारियों का खतरा काफी कम हो जाता है। डॉक्‍टरों के अनुसार,  हाई-ब्‍लडप्रेशर या हाइपरटेंशन से दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है, लेकिन दही इन बीमारियों से बचाती है।

क्‍या कहा गया है शोध में ?

वैसे तो कई शोध पहले भी यह दावा कर चुके हैं कि डेयरी प्रोडक्ट दिल की सेहत को ठीक रखने में मददगार हैं। अब अमेरिका के बोस्टन यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन में हाल ही में किए गए शोध में शोधकर्ताओं का कहना है कि दही का हृदय संबंधी बीमारियों के खतरे से सीधा संबंध है। यह शोध अमेरिकन जर्नल ऑफ हाइपरटेंशन में प्रकाशित हुआ है।

कैसे किया शोध ?

शोध के दौरान उच्च रक्तचाप (high blood pressure) की शिकार 30 से 55 साल की उम्र के बीच की 55,000 महिलाओं और 40 से 75 साल की उम्र के 18,000 पुरुषों पर यह अध्ययन किया गया। शोधकर्ताओं का दावा है कि दही का अधिक मात्रा में सेवन करने से हार्ट अटैक का खतरा 30 फीसदी तक कम हो गया। जिन मरीजों की बंद पड़ी रक्त धमनियों को सर्जरी से बदला गया था, उनके आहार में दही शामिल करने के बाद काफी उल्‍लेखनीय नतीजे देखने को मिले। उनके दिल की मांसपेशियां मजबूत हो गई थीं और रक्त का प्रवाह भी दुरुस्त हुआ था।

क्‍या कहना है शोधकर्ताओं का ?

यह शोध करने वाले समूह के सदस्‍यों में से एक बोस्टन यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ मेडिसिन से संबद्ध जस्टिन ब्यूएनडिया का कहना है कि लंबे समय तक दही का सेवन करना हृदय संबंधी बीमारियों के खतरे को कम करने में कारगर हो सकता है। शोध के नतीजों में बताया गया कि दही वैसे भी हृदय की सेहत के लिए अच्छा है। विशेषज्ञों का कहना है कि दही के अलावा फाइबर या रेशे युक्त फल, सब्जियों और मोटे अनाज से हृदय संबंधी बीमारियों का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है।

Related Post

OMG : कई किलोमीटर तक दौड़ाकर डंक मारती हैं ये मधुमक्खियां, ले चुकी हैं सैकड़ों की जान

Posted by - June 11, 2018 0
लंदन। दुनिया की ये सबसे खतरनाक मधुमक्खियां हैं। इनसे छेड़छाड़ करने का मतलब है मौत तक हो जाना। कई किलोमीटर…

ऐसा करें ज्यादातर वक्त, तो पार्किंसन डिजीज के शिकार लोगों को मिलेगी राहत

Posted by - November 10, 2018 0
आयोवा। अमेरिका की आयोवा स्टेट यूनिवर्सिटी की रिसर्च में बताया गया है कि अगर कोई खतरनाक दिमागी बीमारी पार्किंसन का…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *