एक कंपनी ने बनाई जबरदस्त योजना, धरती को मिलेगी खतरनाक गैसों से मुक्ति

106 0

लंदन। वेंचर कैपिटल कंपनी वाई कॉम्बीनेटर ने एक ऐसी जबरदस्त योजना बनाई है, जिसे अगर हकीकत बना दिया जाए, तो धरती को सभी खतरनाक गैसों से मुक्ति मिल जाएगी और वो भी एक साल के भीतर।

वाई कॉम्बीनेटर की योजना के तहत दुनिया के सभी रेगिस्तानों में छोटे-छोटे नखलिस्तान बनाए जाएंगे। ऐसे करीब 45 लाख नखलिस्तान होंगे। इन नखलिस्तानों में जो पानी होगा, उनमें समुद्र में पाए जाने वाले फाइटोप्लैंक्टन जैसे सूक्ष्म जीव रखे जाएंगे। ये समुद्री जीव हवा से कार्बन डाइऑक्साइड को सोख सकते हैं और बिल्कुल पेड़-पौधों की तरह ऑक्सीजन रिलीज करते हैं।

कंपनी की योजना के मुताबिक हर नखलिस्तान में एक वर्ग किलोमीटर की झील बनेगी। जिसमें करोड़ों फाइटोप्लैंक्टन रखे जाएंगे। इस योजना में 5 खरब डॉलर खर्च होंगे और कंपनी के मुताबिक धरती को बचाने के लिए हर देश की सरकार अपने हिसाब से धन देकर इस योजना को पूरा कर सकती है।

अगर योजना लागू की गई, तो वाई कॉम्बीनेटर के अनुसार 45 लाख छोटी झीलों के फाइटोप्लैंक्टन से 41 गीगाटन कार्बन डाइऑक्साइड या ज्यादा को ऑक्सीजन में बदला जा सकेगा। बता दें कि फिलहाल दुनिया में जितनी कार्बन डाइऑक्साइड हर साल बनती है, उससे ये मात्रा काफी ज्यादा होगी।

हालांकि, कुछ वैज्ञानिक इस योजना पर सवाल उठा रहे हैं। उनका कहना है कि ऐसी झीलों में अरबों गैलन पानी भरने के लिए बड़े पंप लगाने होंगे। हर झील 2 मीटर गहरी होगी। इस प्रक्रिया से पर्यावरण को और नुकसान हो सकता है। वहीं, वाई कॉम्बीनेटर का दावा है कि ऐसे बनाए जाने वाले नखलिस्तानों से रेगिस्तान के बढ़ने को भी रोका जा सकेगा, जहां इंसान और अन्य जीव रह सकेंगे। इसके अलावा झीलों में इस्तेमाल पानी से नमक वगैरा हटाने के बाद खेतों की सिंचाई का काम भी किया जा सकेगा।

Related Post

बुजुर्ग महिला ने सुरक्षित यात्रा के लिए उछाला सिक्का, 5 घंटे लेट हुआ विमान

Posted by - June 30, 2018 0
बीजिंग। शंघाई में एक वृद्ध महिला ने उनकी हवाई यात्रा सुरक्षित हो, इसके लिए सिक्‍का उछाला जो विमान के इंजन में…

पीएनबी महाघोटाला : सीवीसी ने पूछा – नियमों के बावजूद कैसे हुआ घोटाला?

Posted by - February 19, 2018 0
केंद्रीय सतर्कता आयोग ने पंजाब नेशनल बैंक और वित्त मंत्रालय से 10 दिन में मांगी रिपोर्ट नई दिल्‍ली। देश के…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *