महिलाओं में घट रहे हैं त्वचा कैंसर के मामले, लेकिन पुरुषों को हो रहे हैं ज्यादा

47 0

ग्लासगो। ब्रिटेन में एक नई स्टडी से पता चला है कि त्वचा कैंसर यानी मेलानोमा की बीमारी महिलाओं में कम हो रही है, लेकिन पुरुषों में ये बीमारी होने की घटनाएं ज्यादा हो रही हैं। साल 1985 से लेकर अब तक की स्टडी में ये पाया गया है।

रॉयल फ्री लंदन एनएचएस फाउंडेशन ट्रस्ट ने स्टडी के बाद ये जानकारी दी है। स्टडी की प्रमुख डोरोथी यांग ने बताया कि इसकी बड़ी वजह ये है कि पुरुष अपनी त्वचा की सुरक्षा के लिए कोई उपाय नहीं करते। जबकि, महिलाएं स्किन क्रीम और धूप से बचने के लिए क्रीम वगैरा का इस्तेमाल करती हैं।

डोरोथी यांग ने बताया कि मेलानोमा के 90 फीसदी मामलों में त्वचा की कोशिकाएं नष्ट हो जाती हैं। इनकी वजह सूरज की तेज रोशनी और अल्ट्रावायलेट किरणों के संपर्क में आना होता है। यूएस सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल के मुताबिक जिन 18 देशों में मेलानोमा के मामलों को देखा गया, उनमें से 8 देशों में पता चला कि बीते 30 साल में इस कैंसर के पुरुष मरीजों की मौत की तादाद औसतन 50 फीसदी बढ़ गई है।

मेलानोमा से पुरुषों की मौत के मामले आयरलैंड और क्रोएशिया में दोगुने हो गए हैं। इसके अलावा स्पेन और ब्रिटेन में इससे होने वाली मौतें 70 फीसदी, नीदरलैंड में 60 फीसदी, फ्रांस और बेल्जियम में 50 फीसदी और अमेरिका में 25 फीसदी हो गई है। ऑस्ट्रेलिया में त्वचा कैंसर से 2013 से 2015 तक प्रति एक लाख पुरुषों में छह की मौत होने की बात सामने आई। वहीं, फिनलैंड में 30 साल के दौरान त्वचा कैंसर से मौतों के मामलों में सिर्फ 10 फीसदी का ही इजाफा हुआ है।

पहले ऑस्ट्रिया, चेक रिपब्लिक, इजरायल, रोमानिया, स्वीडन और ब्रिटेन में महिलाओं में मेलानोमा की बीमारी सबसे ज्यादा देखी जाती थी। अब ये घटकर 9 से 23 फीसदी तक आ गई है। हालांकि, नीदरलैंड में 58 फीसदी महिला मरीज, आयरलैंड में 49 फीसदी, बेल्जियम में 67 फीसदी और स्पेन में 74 फीसदी महिला मरीजों की मौत होने की बात सामने आई है।

जापान में त्वचा कैंसर से सबसे कम मौतें होती हैं। यहां प्रति एक लाख आबादी में पुरुषों की मौत की दर 0.24 और महिलाओं की 0.18 फीसदी ही है। वैज्ञानिक अब ये जानना चाह रहे हैं कि क्या ये जीन में किसी खास चीज की वजह से है या जापान का पर्यावरण त्वचा कैंसर के कम मामलों की वजह है।

Related Post

सीबीआई पूछताछ से डिप्रेशन में आए पूर्व डायरेक्टर ने खुद को गोली मारी

Posted by - January 10, 2018 0
उत्तर प्रदेश स्वास्थ्य सेवाओं के डायरेक्टर रह चुके हैं डॉ. पवन कुमार श्रीवास्तव सीबीआई ने एनआरएचएम घोटाले में 15 जनवरी…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *