Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

रात में नींद नहीं आती या सुबह होता है सिरदर्द, आपके दांत हैं इसके लिए जिम्मेदार

96 0

लंदन। अगर आपको रात में ठीक से नींद नहीं आती या सुबह उठने के बाद सिर में आए दिन दर्द रहता है, तो इसकी वजह आपके दांत हैं। आम तौर पर लोग नींद न आने या सिर में दर्द के बारे में अपने फिजिशियन से संपर्क करते हैं, लेकिन एक डेंटिस्ट के मुताबिक ऐसे लोगों को दांतों के डॉक्टर के पास जाना चाहिए।

ब्रिटिश सोसाइटी ऑफ डेंटल स्लीप मेडिसिन की अध्यक्ष डॉ. अदिति देसाई के मुताबिक, लोग जब नींद न आने और सिर में दर्द की बात कहते हैं, तो दोनों को एक-दूसरे से आमतौर पर जोड़ देते हैं। उन्हें लगता है कि नींद ठीक से न आने की वजह से ही सिर में दर्द हो रहा है, जबकि इसके लिए दांत ही जिम्मेदार होते हैं।

नींद ठीक से न आने और सिर में दर्द की वजह अदिति दांतों से दांतों का घिसना बताती हैं। उनके मुताबिक, तमाम लोग बिना सोचे-समझे अपने दांतों को घिसते रहते हैं। तमाम लोग नाराज होने पर दांत किटकिटाते हैं। इस वजह से ही नींद की कमी और सिर दर्द हो जाता है।

अमेरिका के जॉर्जिया राज्य के अटलांटा के नामचीन डेंटिस्ट डॉ. मयूर पटेल का कहना है कि रात में सोते वक्त दांतों से दांत घिसने की वजह से लोगों को सिर में दर्द हो सकता है। डॉ. मयूर का कहना है कि दांतों से दांत घिसने या किटकिटाने से चेहरे पर मौजूद ट्रिजेमिनल नाम की नस सक्रिय हो जाती है। इस वजह से सिर में दर्द होता है। उनके मुताबिक, दांतों से दांत घिसने वाले 30 से 50 फीसदी लोगों को सिरदर्द की शिकायत होती है।

डॉक्टरों का कहना है कि दांत किटकिटाने और आपस में रगड़ने की वजह से ऑब्स्ट्रक्टिव स्लीप एप्निया भी हो जाता है। इस स्थिति में सांस की नली की दीवारें पतली हो जाती हैं। इससे सांस लेने में दिक्कत होती है और नींद ठीक से नहीं आती है। डॉ. अदिति देसाई का कहना है कि जो लोग दांतों से दांत घिसते हैं या किटकिटाते हैं, उनमें ये बीमारी आमतौर पर देखी जाती है। ऐसे लोगों में हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, स्ट्रोक और दिल की बीमारियां भी देखी जाती हैं।

Related Post

चीफ सेक्रेटरी से मारपीट मामले में मुश्किल में केजरीवाल, चार्जशीट में आया नाम

Posted by - August 13, 2018 0
नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने दिल्ली सरकार में चीफ सेक्रेटरी अंशु प्रकाश से मारपीट के मामले में कोर्ट में चार्जशीट…

भाजपा ने दलितों-पिछड़ों के प्रति सोच नहीं बदली तो अपना लूंगी बौद्ध धर्म : मायावती

Posted by - October 24, 2017 0
बसपा प्रमुख ने बीजेपी पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के ‘जातिवादी एजेंडे‘ को आगे बढ़ाने का लगाया आरोप आजमगढ़। बहुजन समाज पार्टी…

खड़े नहीं हो सकते फिर भी बच्चों को शिद्दत से पढ़ाते हैं संजय सेन, लोगों ने किया जज्बे को सलाम

Posted by - September 14, 2018 0
अजमेर। अगर मन में कुछ करने का इरादा हो, तो आप कुछ भी कर सकते हैं। राजस्थान के रहने वाले…

गुजरात के अक्षरधाम मंदिर पहुंचे राहुल गांधी, कहा- GST सिम्पल टैक्स बने

Posted by - November 11, 2017 0
अहमदाबाद/गांधीनगर.कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी शनिवार को अहमदाबाद पहुंचे। सबसे पहले वे यहां के अक्षरधाम मंदिर पहुंचे। इससे पहले उन्होंने कहा- “जीएसटी में…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *