NIMR के वैज्ञानिक हुए कामयाब, बेकाबू मलेरिया को मिटाने वाली दवा खोजी

85 0

नई दिल्ली। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मलेरिया रिसर्च यानी एनआईएमआर के वैज्ञानिकों ने ऐसी दो दवाइयां खोजी हैं, जो मलेरिया के लिए रामबाण होगी। ये दोनों दवाइयां मलेरिया के उन मरीजों को ठीक करेंगी, जिनपर कुनैन समेत कोई भी दवा काम नहीं करती है।

नेचर ग्रुप ऑफ जर्नल्स में छपी रिसर्च के मुताबिक दोनों दवाइयों का चूहों पर परीक्षण किया गया है। रिसर्च करने वाले दल की प्रमुख आकांक्षा पंत के अनुसार मलेरिया एक परजीवी से होता है और एनोफिलीज मच्छर इस परजीवी के वाहक होते हैं। साल 2016 में मलेरिया से 21 अरब लोग बीमार हुए और दुनियाभर में 4 लाख 45 हजार लोगों ने जान गंवाई। हालांकि 2010 और 2016 के बीच मलेरिया होने के मामलों में 18 फीसदी की कमी भी आई है।

मलेरिया होने के मामले भले ही कम हुए हों, लेकिन हकीकत ये भी है कि लोगों में इसकी दवा के प्रति प्रतिरोधक पैदा हो गए हैं। ऐसे में मलेरिया होने पर कोई दवा काम ही नहीं करती है। भारत में 2016 में मलेरिया के 1 करोड़ मरीज मिले थे और 1018 लोगों की मौत हुई थी। जबकि, 2010 में 1.6 करोड़ लोग मलेरिया से ग्रस्त हुए थे और 331 ने जान गंवाई थी।

जब भी किसी को मलेरिया होता है, तो शरीर में फैल्सीपेन नाम का तत्व पैदा हो जाता है। इससे खून में मौजूद हीमोग्लोबिन टूटकर अमीनो एसिड पैदा करता है। मलेरिया के परजीवी इसी अमीनो एसिड को खाकर जिंदा रहते हैं और लगातार संख्या बढ़ाते हैं। फैल्सीपेन बनना रोककर ही मलेरिया के परजीवी को मारा जा सकता है। एनआईएमआर के वैज्ञानिकों ने जो नई दवाइयां खोजी हैं, उनसे फैल्सीपेन बनना बंद हो जाता है।

अभी जिन इंसानों पर दोनों दवाइयों का परीक्षण किया गया है, उनमें कोई साइड इफेक्ट नहीं मिले हैं। इसके अलावा दोनों दवाइयों से इंसानी शरीर में कोई टॉक्सिक पदार्थ भी पैदा नहीं हुए। इन दवाइयों से पी. फैल्सीपेरम, पी. विवॉक्स, पी. मलेरिए और पी. ओवेल नाम के मलेरिया परजीवी से इंसान को बचाया जा सकता है। बता दें कि कि भारत में पी. फैल्सीपेरम और पी. विवॉक्स जैसे परजीवियों से ही सबसे ज्यादा मलेरिया फैलता है। इन दोनों मलेरिया परजीवियों पर क्लोरोक्वीन यानी कुनैन नाम की दवा काम नहीं करती है।

Related Post

हरियाणा, जम्मू-कश्मीर व बिहार में भूकंप के तेज झटके, रिक्‍टर स्‍केल पर तीव्रता 4.6

Posted by - September 12, 2018 0
नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर और हरियाणा के कई इलाकों में बुधवार (12 सितंबर) तड़के भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। जम्मू-कश्मीर…

…तो वसुंधरा सरकार की ‘राजस्थान गौरव यात्रा’ में ‘31 सितम्बर’ को भी होगी रैली !

Posted by - August 27, 2018 0
जयपुर। राजस्थान में इसी साल के आखिर में विधानसा चुनाव होने हैं। इससे पहले मतदाताओं को लुभाने के लिए मुख्यमंत्री वसुंधरा…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *