NBRI ने बनाई हर्बल दवा, किडनी की पथरी खत्म करेगी 1 रुपये वाली गोली

89 0

लखनऊ। किडनी की पथरी के मरीजों के लिए एक राहत भरी खबर है। लखनऊ स्थित नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ बॉटनिकल रिसर्च (NBRI) ने एक ऐसी हर्बल दवा बनाई है, जो किडनी और यूरिनरी ट्रैक्ट की पथरी का साइज घटाकर उसे नष्ट कर देगी। खास बात यह है कि इसकी कीमत एक रुपये प्रति गोली होगी और यह सबकी पहुंच में होगी।

पथरी को छोटा कर देगी यह दवा

संस्थान के निदेशक प्रोफेसर एसके बारिक ने बताया कि आम तौर पर ऐलोपैथिक और आयुर्वेदिक दवाओं में 18-20 तरह के फॉर्म्युलेशन होते हैं, लेकिन यह हर्बल दवा पांच सुलभ औषधियों से मिलाकर बनाई गई है, इसलिए इसकी कीमत बहुत ही कम है। एनबीआरआई के फार्माकोग्नॉसी विभाग के प्रमुख वैज्ञानिक शरद श्रीवास्तव ने बताया कि आमतौर पर छोटे आकार की पथरी खुद मूत्र मार्ग से निकल जाती है, लेकिन 6 मिलीमीटर या इससे बड़ी साइज की पथरी के लिए सर्जरी करनी पड़ती है। उन्‍होंने बताया कि इस नई दवा को दिन में दो बार लेने पर पथरी का साइज घटाने में तकरीबन 10 दिन का समय लगेगा।

क्षतिग्रस्त टिश्यू को भी दुरुस्त करेगी

फार्माकोग्नॉसी विभाग की डॉ. अंकिता मिश्रा ने बताया कि पथरी अक्सर किडनी या यूरिनरी ट्रैक्ट की सेल से चिपक जाती है, जिससे घाव बन जाता है। उन्होंने बताया कि यह दवा पथरी को इस आकार में बदल देगी ताकि यह शरीर की अंदरूनी लाइनिंग से न चिपके। यह दवा पथरी निकालने के लिए हुई सर्जरी से क्षतिग्रस्त कॉर्टियल टिश्यू को भी दुरुस्त करती है। जो महिलाएं यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (यूटीआई) की समस्या से पीड़ित हैं, वे भी इसका इस्तेमाल कर सकेंगी।

इंसानों पर परीक्षण होना बाकी

वैज्ञानिक शरद श्रीवास्तव ने बताया कि इस दवा के ह्यूमन ट्रायल के लिए ड्रग कंट्रोलर ऑफ इंडिया से अनुमति मांगी गई है। अनुमति मिलने के बाद केजीएमयू के यूरोलॉजी विभाग के डॉ. एसएस शंखवार और डॉ. सलिल टंडन इसका ह्यूमन ट्रायल करेंगे। इस हर्बल दवा की सेफ्टी और टॉक्सीसिटी की जांच आईआईटीआर के डॉ. विकास और डॉ. हफीस ने की है।

Related Post

दुनिया की सबसे उम्रदराज चिड़िया, 68 साल की उम्र में बनने जा रही है फिर से मां

Posted by - December 10, 2018 0
न्यूयॉर्क। दुनिया में कई बार ऐसी घटनाएं होती हैं कि हर रहस्य को सुलझाने का दावा करने वाला विज्ञान भी…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *