हो जाएं सावधान ! कम पानी पीने पर शरीर में होने लगते हैं खतरनाक बदलाव

80 0

नई दिल्‍ली। सभी जानते हैं कि पानी पीना शरीर के लिए कितना आवश्‍यक है। कहा भी गया है – ‘जल ही जीवन है’। हमारे शरीर में 60 फीसदी से अधिक पानी ही होता है। शरीर के सभी अंग ठीक ढंग से अपना काम करते रहें, इसके लिए जरूरी है कि नियमित तौर पर पानी पिया जाए। डॉक्‍टरों का कहना है कि कम पानी पीने पर डिहाइड्रेशन हो जाता है, जिससे शरीर को कई सारे नुकसान पहुंचते हैं। आइए जानते हैं डिहाइड्रेशन के कारण शरीर में किस तरह के परिवर्तन होते हैं –

पाचन तंत्र प्रभावित

शोध बताते हैं कि शरीर में पानी की कमी हमारे पाचन तंत्र को बुरी तरह प्रभावित कर सकती है। हमें लगता है कि कब्‍ज की समस्या का इलाज केवल फाइबर ही है, लेकिन इसे दूर करने के लिए पानी भी उतना ही जरूरी है। इसमें कोई संदेह नहीं कि फाइबर शरीर से जहरीले पदार्थों को निकालने में मदद करता है, लेकिन इन जहरीले पदार्थों को बाहर निकालने के लिए पानी की सबसे ज्‍यादा जरूरत होती है।

त्‍वचा संबंधी समस्‍याएं

रिसर्च में सामने आ चुका है कि अगर आप पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं पीते हैं तो आपकी त्‍वचा पर भी इसका असर दिखने लगता है। कम पानी पीने से आपकी त्वचा ड्राई हो जाती है। इसके अलावा खुजली, चमड़ी कड़ी होना और त्‍वचा संबंधी कई अन्‍य तरह की समस्‍याएं भी हो सकती हैं।

किडनी पर पड़ता है असर

किडनी और पानी का गहरा नाता है। कम पानी पीने पर ब्लैडर, किडनी या UTI इन्फेक्शन की आशंका कई गुना बढ़ जाती है। किडनी शरीर में वाटर बैलेंस बनाए रखने के लिए काम करती है। किडनी को ठीक ढंग से काम करने के लिए पानी की जरूरत होती है। अगर आप कम पानी पीते हैं तो किडनी अपना काम ठीक से नहीं कर पाती है, जिससे ब्लैडर और यूरिनरी इन्फेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है। हमारे शरीर में जो साल्ट और मिनरल्स स्टोन बनाते हैं, पानी उन्‍हें यूरीन में घोल देता है। कम पानी पीने पर इन साल्ट और मिनरल्स का जमाव किडनी में पथरी के रूप में हो सकता है।

गुस्‍सा और तनाव भी संभव

डिहाइड्रेशन होने आप थका हुआ और सुस्त महसूस करते हैं। यही नहीं, डिहाइड्रेशन का असर शरीर के ऊर्जा के स्तर और हमारी सोचने-समझने की क्षमता पर भी पड़ता है। डॉक्टरों के मुताबिक, डिहाइड्रेशन के कारण मन:स्थिति ठीक नहीं रहती और आपको गुस्सा भी आ सकता है। डॉक्‍टरों का कहना है कि शरीर की व्यवस्थाएं रक्त द्वारा उपलब्ध ऑक्सीजन पर निर्भर करती हैं। कम पानी पीने से शरीर के कई अंग अपनी क्षमता के मुताबिक काम नहीं कर पाते हैं। इससे सुस्ती बढ़ने के साथ-साथ शॉर्ट टर्म मेमोरी जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं।

हो सकती है माइग्रेन की समस्‍या

पर्याप्त पानी न पीने से भी माइग्रेन की समस्या भी हो सकती है। माइग्रेन के कारण सिर में भयानक दर्द होता है। एक सर्वेक्षण के मुताबिक विश्व की जनसंख्या का 10 प्रतिशत हिस्सा माइग्रेन से पीड़ित है और इसमें से करीब 80 प्रतिशत महिलाएं हैं। माइग्रेन का दर्द जब चरम पर पहुंचता है तो कई मामलों में व्यक्ति में आत्महत्या की प्रवृत्ति पैदा हो जाती है। आधुनिक शोध बताते हैं कि माइग्रेन में तेज सिरदर्द के कारण ब्रेन हैमरेज अथवा पक्षाघात भी हो सकता है।

Related Post

वैज्ञानिकों ने किया दावा, स्तन कैंसर के इलाज में मददगार है नीम

Posted by - July 5, 2018 0
हैदराबाद। वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि स्‍तन कैंसर के इलाज में नीम मददगार साबित हो सकता है। हैदराबाद स्थित राष्ट्रीय…

यूट्यूब के हेडक्वॉर्टर में गोलीबारी, महिला ने तीन को मारी गोली, फिर की खुदकुशी

Posted by - April 4, 2018 0
सैन ब्रूनो। उत्तरी कैलिफोर्निया के इस शहर में यूट्यूब के हेडक्वॉर्टर में एक महिला बंदूक लेकर दाखिल हो गई। उसने…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *