इस तरह भारत में हर साल होने वाली लाखों मौतों को जा सकता है रोका

44 0

नई दिल्ली। हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की एक रिसर्च से पता चला था कि भारत में डॉक्टरों की लापरवाही से हर साल औसतन 52 लाख लोगों की मौत होती है। इसकी बड़ी वजह अस्पताल में लाए जाने वाले मरीजों के इलाज के मामले में ज्ञान की कमी बताई गई है। इसे रोकने के लिए विशेषज्ञों ने बड़ा सुझाव दिया है।

विशेषज्ञों का कहना है कि डॉक्टरों और नर्सों के लिए विशेष पाठ्यक्रम चलाकर इन मौतों में से ज्यादातर को रोका जा सकता है। यहां तक कि मौतों का आंकड़ा आधे तक घट जाने की बात उन्होंने कही है। पाठ्यक्रम में बताया जाएगा कि गंभीर बीमार या जख्मी लोगों की किस तरह देखभाल की जानी चाहिए।

ब्रिटेन की रॉयल लिवरपूल यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल के विशेषज्ञों का कहना है कि डॉक्टरों और नर्सों के लिए एक्यूट क्रिटिकल केयर कोर्स शुरू करना चाहिए। इसे ब्रिटेन में 1980 के दशक में तैयार कर लागू किया गया था। जिसके बाद वहां भी डॉक्टरों की गफलत से होने वाली मौतों की संख्या में काफी गिरावट देखने को मिली है। यहां तक कि सेप्सिस जैसी खतरनाक स्थिति में भी ये कोर्स काफी फायदेमंद रहा है।
बता दें कि ब्रिटेन और अमेरिका में सर्जरी के जानकार डॉक्टरों के लिए दो दिन का ये पाठ्यक्रम जरूरी कर दिया गया है। ब्रिटेन में हर साल डॉक्टरों की लापरवाही से 98 हजार और अमेरिका में औसतन हर साल करीब 4 लाख मरीजों की मौत के मामले सामने आने के बाद ये पाठ्यक्रम जरूरी किया गया।

Related Post

जिन्ना का विरोध सही, लेकिन गोडसे के मंदिर पर भी बोलें लोग : जावेद अख्तर

Posted by - May 3, 2018 0
अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में जिन्‍ना की तस्‍वीर के विवाद में गीतकार जावेद अख्‍तर भी कूदे नई दिल्‍ली। वरिष्ठ गीतकार और…

अमेरिका में पकड़ा गया ‘टॉलीवुड सेक्स रैकेट’, भारतीय दंपति गिरफ्तार

Posted by - June 18, 2018 0
टॉलीवुड की अभिनेत्रियों से शिकागो में वेश्यावृत्ति कराते थे फिल्‍म प्रोड्यूसर और उसकी पत्‍नी नई दिल्ली। अमेरिका में तेलुगू फिल्म इंडस्ट्री…

कमलनाथ बनाए गए मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष, ज्योतिरादित्य को भी बड़ा जिम्मा

Posted by - April 26, 2018 0
नई दिल्ली/भोपाल। मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा से कांग्रेस सांसद कमलनाथ को पार्टी ने मध्यप्रदेश में पार्टी यूनिट का अध्यक्ष बनाया है।…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *