वैज्ञानिकों ने बनाया ऐसा पदार्थ, जो सूरज के ताप से बनाएगा सस्ती बिजली

112 0

वॉशिंगटनअमेरिका के वैज्ञानिकों को एक ऐसा पदार्थ विकसित करने में सफलता मिली है जो सूर्य के ताप से बिजली बनाने में सक्षम है। इस पदार्थ के जरिए रात के समय और आसमान में बादल छाए रहने के बावजूद सस्ती सौर ऊर्जा पैदा की जा सकती है। वैज्ञानिकों का मानना है कि इससे प्राप्‍त बिजली काफी सस्‍ती होगी।

क्‍या कहना है शोधकर्ताओं का ?

शोधकर्ताओं का कहना है कि यह नई खोज सौर ताप से बिजली बनाने की दिशा में एक महत्त्वपूर्ण कदम साबित हो सकता है जो जीवाश्म ईंधनों से बनने वाली बिजली में आने वाली लागत से सीधा मुकाबला करेगा, यानी इससे प्राप्‍त बिजली ज्यादा किफायती होगी। अमेरिका के पुरड्यू विश्वविद्यालय के प्राध्यापक केनेथ सैंडहेज ने कहा, ‘बैटरी के जरिए ऊर्जा संरक्षित करने की तुलना में ताप के रूप में सौर ऊर्जा को संरक्षित करना पहले से ही सस्ता है, इसलिए अब अगला कदम सौर ताप से बिजली पैदा करने में आने वाले खर्च को और कम करना है। इसका एक फायदा और होगा कि इससे ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन शून्य होगा।’

कौन सा है यह पदार्थ ?

शोधकर्ताओं का कहना है कि सौर ऊर्जायुक्त बिजली को सस्ता बनाने के लिए टर्बाइन इंजन को उसी मात्रा के ताप में ज्यादा बिजली पैदा करनी होगी और इसके लिए इंजन को ज्यादा तेज चलना होगा। हालांकि समस्या यह है कि ताप स्थानांतरित करने वाली वस्तु अभी स्टेनलेस स्टील या निकल आधारित मिश्र धातु की बनी होती है जो ज्यादा तापमान पर बहुत नरम हो जाते हैं। अब शोधकर्ताओं ने सिरामिक जरकोनियम कार्बाइड और धातु टंगस्टन के मिश्रण से ऐसा पदार्थ तैयार किया है, जो इस काम को करने में सक्षम है। इसके जरिए टर्बाइन इंजन को और तेज चलाया जा सकता है।

ताप से कैसे बनती है बिजली ?

शोधकर्ताओं का कहना है कि सौर ऊर्जा संयंत्र सौर ऊर्जा को बिजली में बदलने के लिए शीशे या लेंसों के जरिए एक छोटे से स्थान पर प्रकाश को केंद्रित करते हैं जो ताप पैदा करता है। इसे एक मॉल्टन सॉल्ट में स्थानांतरित किया जाता है। मॉल्टन सॉल्ट मानक तापमान एवं दबाव में ठोस रहने वाला वह नमक है, जो तापमान बढ़ने के साथ ही द्रव में बदल सकता है और उसे ताप को स्थानांतरित करने वाले तरल पदार्थ के तौर पर प्रयोग किया जा सकता है। मॉल्टन सॉल्ट की गर्मी को फिर वर्किंग फ्लूड सुपरक्रिटिकल (चेन रिएक्शन बढ़ाने वाला विखंडनीय पदार्थ) कार्बन डाईऑक्साइड में स्थानांतरित किया गया, जो बिजली पैदा करने वाले यंत्र को चलाने का काम करता है।

Related Post

VIDEO: 20 साल बाद स्टेज पर उतरीं रेखा, अमिताभ के हिट सॉन्ग पर थिरकीं

Posted by - June 26, 2018 0
बैंकॉक। इंटरनेशनल इंडियन फिल्म एकेडमी अवॉर्ड्स यानी IIFA के लिए बैंकॉ़क में स्टेज सजा था। बॉलीवुड के तमाम सितारे जुटे…

केजरी को झटका, सुप्रीम कोर्ट ने कहा – एलजी दिल्ली के बॉस

Posted by - November 2, 2017 0
सर्वोच्‍च न्‍यायालय ने कहा – एलजी के पास ज्‍यादा अधिकार, पर उन्‍हें फाइल रोकने पर वजह बतानी पड़ेगी नई दिल्ली। उच्चतम…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *