शरीर में होने वाले इस छोटे बदलाव को न करें इग्नोर, ब्लड कैंसर के लक्षण हो सकते हैं

67 0

नई दिल्ली। ब्लड कैंसर बहुत खतरनाक बीमारी है। भागदौड़ वाली जिंदगी में किसी भी व्यक्ति को कोई भी समस्या कभी भी हो सकती है, इसलिए ये बहुत जरूरी है कि आपको ब्लड कैंसर के बारे में पूरी जानकारी हो, ताकि समय रहते इसका इलाज करवाया जा सकें। आइए जानते है ब्लड कैंसर के शुरूआती लक्षण।

ब्लड कैंसर के शुरुआती स्टेज में आपको एनीमिया जैसे संकेत दिखाई दे सकते हैं। हर समय थकावट, कमजोरी या हल्का-सा बुखार भी ब्लड कैंसर का संकेत होते हैं।

ब्लड कैंसर होने पर गले या अंडरआर्म्स में हल्का दर्द और सूजन आ जाती है। इसके अलावा अगर आपके पैरों में लगातार सूजन और सीने में जलन रहती है तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएं।

अगर आपके मुंह, नाक से या शौच के दौरान खून निकल रहा है तो इसे नजरअंदाज बिल्कुल न करें। इसके बारे में सचेत होकर जल्दी से डॉक्टर के पास जाए और ब्लड कैंसर की जांच करवाएं।

न्यूमोनिया होना, मुंह में घाव हो जाना, स्किन पर रेशेज, सिर में दर्द होना, हल्का बुखार या गले में इंफेक्शन को इग्नोर न करें। इस तरह के लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से चेकअप कराएं।

अचानक वजन कम होना या भूख न लगना भी ब्लड कैंसर का संकेत होता है। जिन लोगों को कैंसर होता है उनका वजन असामान्य रूप से कम होने लगता है। अगर बिना किसी प्रयास के शरीर का वजन ज्यादा कम हो जाए तो यह ब्लड कैंसर का शुरूआती लक्षण हो सकता है।

रक्त कैंसर से ग्रस्त व्यक्ति बार-बार संक्रमण की चपेट में आ जाता है। जब शरीर में ल्यूकीमिया के सेल विकसित होते हैं तो रोगी के मुंह, गले, त्वचा, फेफड़ो आदि में संक्रमण की शिकायत देखी जा सकती है।

हड्डियों और जोड़ों में दर्द होना सिर्फ अर्थराइटिस ही नहीं ब्लड कैंसर का भी लक्षण हो सकता है। रक्त कैंसर अस्थि मज्जा में होने वाला रोग है, जोकि हड्डियों और जोड़ों के आसापास ज्यादा मात्रा में पाया जाता है। यह मैरो में सफेद रक्त कोशिकाओं की मात्रा बढ़ जाने के कारण होता है।

Related Post

लैंगिक भेदभाव मिटाने को ब्रिटेन के इस स्कूल में अब लड़के भी स्कर्ट में दिखेंगे

Posted by - April 9, 2018 0
लंदन। telegraph.uk नाम की वेबसाइट के मुताबिक ब्रिटेन के नामी अपिंघम स्कूल में लड़के भी अब स्कर्ट में दिखेंगे। लैंगिक भेदभाव खत्म…

रिसर्च में खुलासा : भारत में 80 फीसदी महिलाएं ऑस्टियोपोरोसिस की चपेट में

Posted by - November 24, 2018 0
नई दिल्ली। कम उम्र की लड़कियों, किशोरियों, गर्भवती महिलाओं, स्तनपान कराने वाली महिलाओं और रजोनिवृत्त महिलाओं में ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा…

सुप्रीम कोर्ट ने कहा – संसद में चर्चा के चलते किसी मुद्दे को नहीं छोड़ सकते हम

Posted by - October 27, 2017 0
सुप्रीम कोर्ट ने बृहस्पतिवार को स्पष्ट कहा कि संसद में चर्चा जारी होने के कारण हम किसी मुद्दे से दूर…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *