अब कम ऊर्जा खपत वाले App बनाने में मदद करेगा Artificial Intelligence

94 0

वॉशिंगटन।अमेरिका केवैज्ञानिकों ने कृत्रिम मेधा (Artificial Intelligence AI) की मदद से एक ऐसा उपकरण तैयार किया है, जो डेवलपर्स को स्मार्टफोन के लिए कम बैटरी खपत वाले ऐप बनाने में सहायक होगा। इन वैज्ञानिकों में भारतीय मूल का एक वैज्ञानिक भी शामिल है। 

क्‍या है इसकी खासियत ?

अमेरिका के प्रूड्यू विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने जो उपकरण तैयार किया है, उसका नाम है ‘डिफप्रोफ’। यह उपकरण डेवलपर्स के लिए तत्काल यह निर्णय लेगा कि क्या किसी ऐप की ऊर्जा दक्षता में सुधार की गुंजाइश है ? विश्वविद्यालय के पूर्व शोधार्थी अभिलाष जिंदल बताते हैं कि इस तकनीक के जरिये पूरे स्मार्टफोन में बदलाव लाने के लिए डेवलपर्स को अपने ऐप को ऊर्जा के प्रति और दक्ष बनाना होगा।

कैसे करेगा काम ?

वैज्ञानिकों का कहना है कि आमतौर पर कोई कोड दो अलग-अलग ऐप पर अलग-अलग तरीके से चलता है, भले ही डेवलपर्स एक जैसा काम कर रहे हों। ‘डिफप्रोफ’ इसी अंतर को कॉल ट्रीज में पकड़ता है, जिससे यह पता चल जाता है कि एक ऐप का मैसेजिंग फीचर दूसरे ऐप के मुकाबले ज्यादा ऊर्जा क्यों लेता है। इसके बाद यह उपकरण बताता है कि बैटरी की कम खपत के लिए ऐप को दोबारा कैसे बनाया जाए।

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *