Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

Warning: Cannot assign an empty string to a string offset in /var/www/the2ishindi.com/public/wp-includes/class.wp-scripts.php on line 426

भारत में भूख से मौत की बढ़ रही हैं घटनाएं, यूपी और झारखंड में सबसे ज्यादा

96 0

नई दिल्ली। भले ही देश को विकसित बताया जा रहा हो। भले ही हम फ्रांस को पछाड़कर दुनिया की छठी सबसे बड़ी आर्थिक ताकत बन गए हों, लेकिन हकीकत ये है कि भारत में भूख से मरने वालों की तादाद लगातार बढ़ रही है। इन मौतों के सबसे ज्यादा मामले यूपी और झारखंड से सामने आए हैं।

ये कहते हैं आंकड़े
बीते चार साल की बात करें, तो देशभर में 56 लोगों की मौत भूख से हुई। इनमें से 42 लोगों की मौत 2017-18 के बीच हुई है। आईआईटी अहमदाबाद की अर्थशास्त्री रितिका खेड़ा की संस्था राइज यूपी की रिपोर्ट बताती है कि भूख से होने वाली मौतें सबसे ज्यादा यूपी और झारखंड में हुईं। महज एक साल में दोनों राज्यों में 16-16 लोगों ने लंबे समय तक दो जून की रोटी न मिलने की वजह से जान गंवाई है।

ये है भूख से मौत की वजह
रितिका खेड़ा की संस्था की रिसर्च बताती है कि भूख से मौत की बड़ी वजह गरीबों को राशन की दुकान से अनाज न मिलना है। बता दें कि राशन की दुकानों से गरीबी रेखा से नीचे यानी बीपीएल परिवार को अनाज देने का प्रावधान है, लेकिन आधार कार्ड इसके लिए जरूरी है। ऐसे में तमाम परिवारों को राशन न मिलने की खबरें आए दिन सामने आती हैं। इसके अलावा बुजुर्गों और विधवाओं को पेंशन न मिलना भी भूख से मौत की बड़ी वजह के रूप में सामने आया है।

इन समुदायों में मौतें
अर्थशास्त्री रितिका खेड़ा की रिसर्च बताती है कि भूख से मरने वालों में दलित, आदिवासी और मुसलमान हैं। सबसे ज्यादा मौतों के मामले यूपी, बिहार और झारखंड में रहने वाले मुसहरों में देखा गया है। बता दें कि मुसहर, चूहे पकड़ते हैं और उन्हें भोजन के तौर पर इस्तेमाल करते हैं। ये महादलित में शुमार किए जाते हैं और ज्यादातर को सरकारी सुविधाओं का लाभ भी नहीं मिलता है।

कुशीनगर में हाल में दो मौतें
यूपी के कुशीनगर जिले के खिड़किया गांव में रहने वाले फेकू और पप्पू नाम के दो मुसहर युवकों की 13 और 14 सितंबर को मौत हुई थी। उनकी मां सोमवा विधवा हैं और उनके मुताबिक कई महीनों से परिवार को ठीक से भोजन नहीं मिल रहा था।

Related Post

आपके बच्चे की दिमाग की शक्ति इन 3 चीजों पर निर्भर करती है, इस पर काम करना शुरू कर दीजिए

Posted by - October 6, 2018 0
टेक्सास। कई पैरेंट्स इस बात का जवाब ढूंढते हैं कि अपने बच्चे की दिमागी शक्ति को कैसे तेज करें। द…

भारत ने किया अग्नि-1(ए) बैलेस्टिक मिसाइल का सफल परीक्षण

Posted by - February 6, 2018 0
स्वदेशी तकनीक से बनी है यह बैलेस्टिक मिसाइल, मारक क्षमता 700 किलोमीटर भुवनेश्‍वर। भारत ने परमाणु क्षमता से लैस स्वदेशी अग्नि-1…

सूरत से पकड़े गए आतंकियों पर सियासी जंग, रुपाणी ने मांगा अहमद पटेल का इस्तीफा

Posted by - October 27, 2017 0
गुजरात के सीएम बोले – जिस अस्‍पताल से एक आतंकी पकड़ा गया, अहमद पटेल उसके ट्रस्‍टी हैं सूरत। सूरत से पकड़े…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *