आजकल युवा भी हो रहे आर्थराइटिस के शिकार, समय रहते बचाव जरूरी

56 0

नई दिल्‍ली। आंकड़े बताते हैं कि पिछले कुछ सालों में ऑस्टियो आर्थराइटिस की जगह मांसपेशियों के आर्थराइटिस के मामले ज्यादा तेजी से बढ़ रहे हैं। मोटापा भी इसका एक अहम कारण है। मोटापे की वजह से घुटने पर ज्यादा वजन पड़ता है और लोग ऑस्टियो आर्थराइटिस की चपेट में आ रहे हैं। पहले आर्थराइटिस को बुजुर्गों की बीमारी माना जाता था, लेकिन आजकल युवा भी तेजी से इसकी चपेट में आ रहे हैं।

क्‍या कहते हैं डॉक्‍टर ?

डॉक्‍टरों का कहना है कि आधुनिक लाइफ स्टाइल की वजह से अन्य बीमारियों के साथ-साथ आर्थराइटिस के मामले भी तेजी से बढ़ रहे हैं। चिकित्सकों के अनुसार, भारत में कुल जनसंख्या का करीब 15 प्रतिशत किसी न किसी प्रकार के आर्थराइटिस से पीड़ित है। WHO की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में 108 प्रकार के आर्थराइटिस पाए जाते हैं। इस बीमारी के करीब आधा दर्जन प्रकार ज्‍यादा लोगों में मिलते हैं। इनमें सबसे ज्यादा संख्‍या ऑस्टियो आर्थराइटिस से पीडि़त लोगों की है। इसके अलावा रूमेटाइट आर्थराइटिस, सेप्टिक आर्थराइटिस, जूवेनाइल आइडियोपैथिक आर्थराइटिस और गाउट प्रमुख हैं। इनमें सबसे ज्यादा मामले ऑस्टियो आर्थराइटिस के हैं। इसमें हाथ, पैर, कमर, घुटने और कूल्हे प्रभावित हो रहे हैं।

बच्चे भी हो रहे शिकार

आंकड़े बताते हैं कि आजकल के बच्चों में भी बीमारियों का ग्राफ बढ़ रहा है। आर्थराइटिस होने का कोई एक कारक तो नहीं होता, लेकिन शरीर में विभिन्न तत्वों की कमी की वजह से आजकल बच्चे भी आर्थराइटिस की चपेट में आ रहे हैं। इसका प्रमुख कारण बच्चों में कैल्शियम की कमी, लगातार कम्प्यूटर और टीवी पर बैठे रहना है। गलत पोस्चर में बैठकर देर तक पढ़ाई करना और अन्य कारक भी इसके लिए जिम्‍मेदार हैं।

इलाज के बारे में मिथ : डॉ. अतुल

फोर्टिस अस्पताल के आथोर्पेडिक के डायरेक्टर डॉ. अतुल मिश्रा का कहना है कि आमतौर पर गठिया के बारे में ऐसी धारणा है कि इससे निजात पाना संभव नहीं है। हालांकि यह सही नहीं है। आज की मेडिकल साइंस में तमाम तरह के ट्रीटमेंट उपलब्ध हैं, लेकिन यह जरूरी है कि मरीज समय से इलाज शुरू करा दें। डॉ. मिश्रा ने बताया कि मांसपेशियों का आर्थराइटिस आईटी डिपार्टमेंट के लोगों में सबसे ज्यादा बढ़ रहा है। इसका कारण यह है कि आईटी डिपार्टमेंट के लोग लगातार कम्प्यूटर पर काम करते। खासकर गलत पोस्चर में बैठने वालों को यह आर्थराइटिस जल्दी चपेट में ले लेता है।

क्या होता है आर्थराइटिस ?

आर्थराइटिस (गठिया) जोड़ों के दर्द की बीमारी है। अन्य बीमारियों और बदलती लाइफस्टाइल, मोटापा, गलत खान-पान की वजह से शरीर में जरूरी कारकों की कमी के चलते यह बीमारी चपेट में ले लेती है। आर्थराइटिस का सबसे अधिक प्रभाव घुटनों में और उसके बाद कूल्हे की हड्डियों में दिखाई देता है। बहुत लोग समय–समय पर अपने बदन में दर्द और अकड़न महसूस करते हैं। कभी–कभी उनके हाथों, कंधों और घुटनों में भी सूजन और दर्द रहता है तथा उन्हें हाथ हिलाने में भी तकलीफ होती है। ऐसे लोगों को आर्थराइटिस हो सकता है। दरअसरल, आर्थराइटिस जोड़ों के ऊतकों की जलन और क्षति के कारण होता है। जलन के कारण ही ऊतक लाल, गर्म, पीड़ा देने वाले और सूज जाते हैं। यह सारी समस्या यह दर्शाती है कि आपके जोड़ों में कोई समस्‍या है। जोड़ वह जगह होती है, जहां पर दो हड्डियों का मिलन होता है जैसे कोहनी या घुटना।

Related Post

जॉन्सन एंड जॉन्सन के पाउडर से होता है कैंसर ! ग्राहक को 760 करोड़ का मुआवजा

Posted by - April 13, 2018 0
वॉशिंगटन। बेबी केयर प्रोडक्ट बनाने में दुनिया की नंबर-1 कंपनी जॉन्सन एंड जॉन्सन के खिलाफ अमेरिका की एक अदालत ने…

प्रदूषण और पेट्रोल-डीजल की कीमतों का असर, इलेक्ट्रिक वीकल्स खरीदने में बढ़ी रुचि

Posted by - September 17, 2018 0
नई दिल्ली। बढ़ता प्रदूषण और पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों ने गाड़ी रखने वालों की सोच बदलनी शुरू कर दी है।…

दो भारतीयों को भी फोटोग्राफी के लिए मिला पुलित्जर सम्मान

Posted by - April 17, 2018 0
‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ और ‘द न्यूयॉर्कर’ को बेस्ट जर्नलिज्‍म के लिए मिला पुलित्जर अवॉर्ड न्यूयॉर्क। पुलित्‍जर पुरस्‍कार समिति ने 102वें पु‍लित्‍जर…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *