शोध में खुलासा : भारत के बच्चों को मंदबुद्धि बना रहा पर्यावरण में घुल रहा सीसा

98 0

मेलबर्न। शोधकर्ताओं द्वारा किए गए एक नए अध्ययन में यह बात सामने आई है कि भारतीय बच्चों के खून में सीसा की अत्यधिक मात्रा से उनकी बौद्धिक क्षमता बुरी तरह प्रभावित हो सकती है। इससे बच्‍चों में अन्य बीमारियों का खतरा भी बढ़ने की आशंका जताई गई है।

किसने किया अध्‍ययन ?

ऑस्ट्रेलिया में मैकक्वेरी विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने भारतीयों के खून में सीसा के स्तर को लेकर अब तक का पहला बड़ा विश्लेषण किया है। विश्लेषण में शोधकर्ताओं ने पाया कि बीमारी का खतरा पहले के आकलन की तुलना में काफी बढ़ चुका है। इसका बच्चों में बौद्धिक क्षमता के उपायों पर नकारात्मक असर पड़ता है। इसकी वजह से उनकी बौद्धिक क्षमता पर दुष्प्रभाव चिंता का विषय है।

कैसे कर रहा प्रभावित ?

मैकक्वेरी विश्वविद्यालय के ब्रेट एरिक्सन ने कहा कि भारत में रह रहे बच्चों के खून में सीसा के मिश्रण का स्तर करीब 7 माइक्रोग्राम प्रति डेसीलीटर है। शोधकर्ताओं ने बताया कि भारतीयों के रक्त में सीसा के उच्च स्तर में उल्लेखनीय वृद्धि के लिए बैट्री गलन की क्रिया जिम्मेदार है। शोधकर्ताओं का कहना है कि भारत में बैट्री रिसाइकिल की प्रक्रिया की व्यवस्था ठीक नहीं है, जिसके कारण ये दुष्‍परिणाम सामने आ रहे हैं।

कौन से कारण जिम्‍मेदार ?

एरिक्सन ने कहा, ‘भारत में काफी तादाद में लोग मोटरसाइकिल या कारें चलाते हैं और उसकी बैट्री का जीवन सिर्फ दो साल होता है। उनमें इस्तेमाल की गई लेड बैट्रियों की संख्या काफी है, जिन्हें हर साल रिसाइकिल किया जाता है।’ एरिक्‍सन का कहना है कि इन बैट्रियों को प्राय: अनौपचारिक रूप से बेहद कम या नगण्य प्रदूषण नियंत्रकों के साथ रिसाइकिल किया जाता है, जो समूचे शहरी इलाकों की हवा में सीसा की मात्रा बढ़ाता है। अनुसंधानकर्ताओं ने कहा कि आयुर्वेदिक औषधि, आइलाइनर, नूडल्स और मसाले सहित ऐसे अन्य पदार्थ भी हैं, जो बच्चों के खून में सीसा का स्तर बढ़ाते हैं।

49 लाख लोग प्रभावित

शोधकर्ताओं का कहना है कि वर्ष 2010 से 2018 के बीच खून में सीसा के स्तर को बताने वाले आंकड़े से बौद्धिक क्षमता में कमी और रोगों के लिए जिम्मेदार डिसेबिलिटी अडजस्टेड लाइफ इयर्स (DALY) का पता चलता है। DALY  से यह पता चलता है कि खराब स्वास्थ्य, अक्षमता और असमय मृत्यु के कारण हम कितने साल गंवा बैठे हैं। पूर्व के अध्ययनों के अनुमान के अनुसार, सीसा से प्रेरित DALY से 46 लाख लोग प्रभावित हुए और 165,000 लोगों की मौत हुई। नए अध्ययन में यह पता चला कि DALY की संख्या बढ़कर 49 लाख हो सकती है।

Related Post

एफटीआईआई प्रशासन के खिलाफ छात्रों का मोर्चा, अनुपम के लिए खड़ी हुई मुश्किल

Posted by - October 12, 2017 0
बॉलीवुड एक्टर अनुपम खेर को पुणे स्थित प्रतिष्ठित फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (FTII) का नया अध्यक्ष चुना गया…

मिसाल : गांववालों की प्यास बुझाने को 70 साल के सीताराम ने अकेले खोद डाला कुआं

Posted by - May 26, 2018 0
छतरपुर। बिहार में दशरथ मांझी ने अपने हौसले और जज्‍बे से अकेले पहाड़ को काटकर रास्‍ता बना दिया था। अब…

ऑनर किलिंग पर सुप्रीम कोर्ट सख्त , कहा – दो बालिगों की शादी में दखल न दें

Posted by - February 5, 2018 0
गैरसरकारी संगठन शक्ति वाहिनी की याचिका पर सुनवाई में सर्वोच्‍च न्‍यायालय ने की तीखी टिप्‍पणी नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *