परासिटामोल बच्चों के लिए है बहुत खतरनाक, बचपन में खाने से किशोरावस्था में होता है दमे का खतरा

130 0

मेलबर्न: जब भी कोई बीमारी होती है या फिर दर्द होता है तो बच्चों को पैरासिटामोल दे दी जाती है। वैज्ञानिकों ने कहा है कि अगर बच्चों को उनके जीवन के शुरुआती दो वर्षों में बुखार आने पर परासिटामोल दवा दी जाती है, तो 18 साल की उम्र तक आते-आते उन्हें दमा होने का खतरा बढ़ जाता है।

रिसर्चर्स ने कहा है कि परासिटामोल खाने से दमा होने का खतरा उन लोगों में ज्यादा है, जिनमें जीएसटीपी1 जीन होती है।उन्होंने यह भी कहा कि परासिटामोल और दमा के बीच भले ही गहरा संबंध है, लेकिन ऐसा भी नहीं है कि बुखार की दवा लेने से लोगों को दमा हो जाए। वैज्ञानिकों का मानना है कि इस परिणाम की पुष्टि करने के लिए अभी और शोध करने की जरूरत है।

इस निष्कर्ष तक पहुंचने के लिए रिसर्चर्स ने 18 वर्ष तक की आयु के 620 बच्चों का अध्ययन किया। इसमें शामिल किये गए सभी बच्चों के कम से कम एक परिजन को दमा, एक्जिमा (त्वचा रोग) या अन्य एलर्जी संबंधी बीमारी जरूर थी।

Related Post

कुमारस्वामी की राह में रोड़ा बन सकते हैं भाई रेवन्ना, जा सकते हैं बीजेपी के साथ

Posted by - May 16, 2018 0
बेंगलुरु। जेडीएस के एचडी कुमारस्वामी भले ही कर्नाटक में कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार का मुखिया बनने की कोशिश में…

दबंग का लुक होगा ‘भारत’ में ऐसा, डिजाइनर ने फोटो की शेयर…

Posted by - July 24, 2018 0
मुंबई। बॉलीवुड के दबंग खान यानी सलमान खान की अपकमिंग फिल्म  ‘भारत’  कोरियन फिल्म  ‘ओड टू माई फादर’ का हिंदी रीमेक है। मंगलवार (24 जुलाई)…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *