आपके बच्चों को मोटा बना रहे हैं फ्लोर क्लीनर्स, कारण जानकर हो जाएंगे हैरान

47 0

ओटावा। घर को चमकदार बनाने के लिए हम फ्लोर क्लीनर्स का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन हाल ही में एक रिसर्च के मुताबिक, प्लोर क्लीनर्स बच्चों के मोटापे की वजह बन रहे हैं। कनाडा के एक स्टडी में दावा किया गया है कि फिनायल, हारपिक, लाइजोल और इस तरह के अन्य उत्पाद बच्चों के ‘गट माइक्रोब्स’में बदलाव कर बच्चों में वजन बढ़ने की प्रवृत्ति को बढ़ा सकते हैं।

कैनेडियन मेडिकल एसोसिएशन जर्नल में इस बारे में एक अध्ययन प्रकाशित किया गया है। इस अध्ययन के लिए कनाडा की अल्ब्रेटा यूनिवर्सिटी के शोधार्थियों ने 3-4 महीने की आयु के 757 बच्चों के ‘गट माइक्रोब्स’ का विश्लेषण किया। स्टडी के दौरान घरों में इस्तेमाल किये जाने वाले कीटाणुनाशक, सफाई सामग्री व अन्य पर्यावरण हितैषी उत्पाद के प्रभावों का विश्लेषण करते हुए बच्चों का वजन मापा गया। पाया गया कि घरों में कीटाणुनाशकों का ज्यादा इस्तेमाल किये जाने से तीन-चार माह की आयु वाले बच्चों के ‘गट माइक्रोब्स’ में बदलाव आया।

अध्ययन के दौरान घरों में इस्तेमाल किये जाने वाले कीटाणुनाशक, सफाई सामग्री और अन्य पर्यावरण हितैषी उत्पाद के प्रभावों का विश्लेषण करते हुए बच्चों का वजन मापा गया। डिटर्जेंट और सफाई में इस्तेमाल होने वाले अन्य उत्पादों का भी बच्चों पर ऐसा ही प्रभाव पड़ा।

यूनिवर्सिटी ऑफ अल्बर्टा में पैड्रियाटिक की प्रो अनिता कोजीरस्कीज ने बताया कि घरों में उपयोग होनेवाले कीटाणुनाशक का हफ्ते में एक बार भी प्रयोग हानिकारक है। इससे तीन-चार महीने के बच्चों में ‘लैक्नोस्पीरेसी’ माइक्रोब पैदा हो जाता है। यह एक नन-पैथोजेनिक बैक्टीरिया है जिसका आसानी से पता नहीं लगाया या सकता। ऐसे बच्चे जब तीन साल के होते हैं, तब इनका बॉडी मास इंडेक्स अन्य बच्चों की तुलना में अधिक होता है।

Related Post

बिकिनी पहनते ही मंदिरा के बिगड़े बोल, पुरुषों को बोला डरपोक…

Posted by - March 26, 2018 0
मुंबई। बॉलीवुड एक्‍ट्रेस मंदिरा बेदी अपने बोल्ड अंदाज और बड़बोलेपन के चलते अक्सर ख़बरों का हिस्सा बन जाती हैं। हाल ही…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *