बिस्किट-कुरकुरे के खाली प्‍लास्टिक पैकेट्स पर्यावरण को पहुंचा रहे नुकसान, नहीं होता है रिसाइकल

151 0

नई दिल्ली। क्या आपने कभी सोचा है कि जिस बिस्किट के रैपर को आप रोड पर फेंक देते हैं, उसका क्या होता होगा? यह हमेशा के लिए पर्यावरण में रहता है। विभिन्न उत्पादों के बाहर और भीतर चिपकाई जाने वाली पतली प्लास्टिक थैली और कवर को न ही कोई कूड़ा-कचरा बीनने वाली एजेंसी उठाती है और न ही इनका कभी रिसाइकल और निस्तारण होता है। बेहद हल्के इन प्लास्टिक का बाजार में भी कोई भाव नहीं। इन्हें मल्टी लेयर प्लास्टिक (एमएलपी) कहते हैं।

सरकार के पास भी कोई क्लू नहीं है कि इन पैकेट्स के साथ उन्हें क्या करना चाहिए। ज्यादातर MLP शीट्स में 2 लेयर्स होती हैं। 90 से ज्यादा देशों में ग्लोबल एलायंस फॉर इंकिनेटर अल्टरनेटिव (जीएआईए) ने मई 2018 में स्टडी की। इस स्टडी में भारत के 15 शहर भी शामिल थे। स्टडी में उन्होंने पाया कि इन शहरों में 53 प्रतिशत प्लास्टिक वेस्ट MLP के थे।

इंडियन कोऑर्डिनेटर-जीएआईए प्रतिभा शर्मा कहती हैं, एमएलपी का रिसाइकल कभी नहीं होता है। सेंट्रल पब्लिक हेल्थ के एक अधिकारी का कहना है कि भारत की आपूर्ति श्रृंखला ऐसी जगहों पर भी काम करती है जहां मरकरी का लेवल जीरो होता है। इसके अलावा कुछ ऐसी भी जगहें हैं जहां तापमान 50 डिग्री तक पहुंच जाता है। इन जगहों पर उमस कभी-कभी 100 प्रतिशत तक पहुंच जाती है। पैकिंग के दौरान नमी और गैस के ट्रांसमिशन की दर बढ़ जाती है, ऐसी स्थिति में MLP की स्थिति ठीक बनी रही है।

आईपीसीए के निदेशक आशीष जैन ने बताया कि ज्यादातर रोजमर्रा के सामान से बड़ी मात्रा में एमएलपी कचरा पैदा होता है। यह नदी-नालों में तो जा ही रहा है, इन्हें कोई उठाता और खरीदता भी नहीं क्योंकि इनका कोई मूल्य नहीं है। ऐसी प्लास्टिक प्रदूषण और गंदगी की बड़ी वजह हैं। पान-गुटखा कंपनियों के पैकेट हों या फिर नमकीन-बिस्कुट के पैकेट, सभी एमएलपी हैं। आईपीसीए के मुताबिक, हर रोज 2 से 3 टन कचरा इकट्ठा होता है।

Sustainability initiatives के उपाध्यक्ष संजीब के बेजबरोआ का कहना है कि MLP के परफॉर्मेंस को मैच करने के लिए अब तक कोई दूसरा प्रोडक्ट मौजूद नहीं है। कंपनी को इसे रिसाइकल के करने का कोई तरीका ढूंढना चाहिए।

Related Post

खतरनाक बीमारियों से बचाएगा कृत्रिम एंटी ऑक्सीडेंट, 100 गुना ज्यादा है ताकतवर

Posted by - September 13, 2018 0
टोरंटो। वैज्ञानिकों के एक अध्ययन में यह खुलासा हुआ है कि मानव निर्मित एक एंटी ऑक्सीडेंट, ‘टैंपो’  प्राकृतिक रूप से मौजूद…

मारुति के मानेसर प्लांट में घुसा तेंदुआ, कर्मचारी नहीं गए अंदर, काम ठप

Posted by - October 5, 2017 0
गुड़गांव. ऑटोमोबाइल कंपनी मारुति-सुजुकी के मानेसर स्थित प्लांट में गुरुवार सुबह उस वक्त हड़कंप मच गया, जब वहां एक तेंदुआ घुस…

सूफी गायक वडाली बंधु की टूटी जोड़ी, छोटे भाई प्यारेलाल का निधन

Posted by - March 9, 2018 0
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सूफी गायक के निधन पर जताया शोक अमृतसर। सूफी गायिकी के महारथी वडाली ब्रदर्स की जोड़ी…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *