ज्यादा सोने वाले लोगों की समझने की क्षमता हो जाती है कम, दिमाग को पहुंचता है ये नुकसान

72 0

ओटावा। अगर आपको सोना बहुत पसंद है तो अपनी इस आदत को जल्द से जल्द बदल लीजिए, क्योंकि इससे दिमाग को काफी नुकसान पहुंचता है। लएक नई स्टडी में यह बात सामने आई है कि वैसे लोग जो कम सोते हैं या फिर वैसे लोग जो रात में 7-8 घंटे से ज्यादा की नींद लेते हैं, दोनों की ही समझने और जानने की क्षमता कम हो जाती है।

ऐसे की गई स्टडी
कनाडा स्थित वेस्टर्न यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स का कहना है कि पिछले साल जून में शुरू किए गए नींद संबंधी सबसे बड़े रिसर्च में दुनियाभर के 40 हजार लोग शामिल हुए थे। ऑनलाइन शुरू की गई इस वैज्ञानिक जांच में एक प्रश्नावली और ज्ञानात्मक प्रदर्शन (कॉग्नेटिव परफॉर्मेंस) वाली गतिविधियों की शृंखला शामिल की गई। रिसर्चर्स ने पाया कि आपके दिमाग को सही से काम करने के लिए 7-8 घंटे की नींद चाहिए और डॉक्टर भी इतनी ही नींद लेने की सलाह देते हैं।

क्या कहना है रिसर्चर्स का
रिसर्चर एड्रियन ओवन ने कहा, ‘हम दुनियाभर के लोगों की सोने की आदतों के बारे में जानना चाहते थे। यह एक छोटे पैमाने पर नींद पर रिसर्च हुई है, लेकिन हम यह जानना चाहते थे कि वास्तविक जगत में लोगों की नीद संबंधी आदतें कैसी हैं। लगभग आधे प्रतिभागियों ने हर रात 6.3 घंटे से कम नींद लेने की बात कही, जो स्टडी में जरूरी नींद की मात्रा से एक घंटे कम थी। इस स्टडी से सबसे चौंकाने वाली बात यह निकली कि 4 घंटे या उससे कम नींद लेने वालों का परफॉर्मेंस ऐसा था, जैसे वह अपनी उम्र से 9 साल छोटे हों।

Related Post

10 साल में चांद पर रहने लगेंगे इंसान, अगले साल से NASA शुरू करेगा अभियान

Posted by - November 30, 2018 0
केप केनेवरल। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने चांद पर इंसानों को बसाने की बड़ी योजना का खुलासा किया है। एजेंसी…

होली में पाक आतंकियों के घुसपैठ की आशंका, सोनौली बॉर्डर पर बढ़ी चौकसी

Posted by - February 23, 2018 0
धर्म प्रचार की आड़ में दर्जन भर संदिग्ध पाकिस्‍तानी नागरिकों ने नेपाल में किया प्रवेश  शिवरतन कुमार गुप्ता ‘राज़’ महराजगंज।…

गुजरात में सुलझा सियासी संकट, नितिन को मिला वित्त मंत्रालय

Posted by - December 31, 2017 0
राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से फोन पर हुई बातचीत के बाद माने उप मुख्‍यमंत्री नितिन पटेल नई दिल्ली। गुजरात सरकार में…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *