इस उम्र से पहले बच्चों को नहीं भेजना चाहिए स्कूल, हर पैरेंट्स को पता होनी चाहिए ये बात

156 0

सैक्रामेंटो ( कैलिफोर्निया)। भारत में ज्यादातर बच्चों को पैरेंट्स कम उम्र में स्कूल भेजना शुरू कर देते हैं।  एज ये तय नहीं करती है कि बच्चा स्कूल जाने के लिए तैयार है या नहीं। इस बारे में भारत में कई पैरेंट्स कन्‍फ्यूज रहते हैं कि बच्चों को कौन सी उम्र में स्कूल भेजना चाहिए। इस बारे में एक नई रिसर्च सामने आई है।

 

ऐसे की गई स्टडी

कैलिफोर्निया के स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के रिसर्चर्स थॉमस डी और हंस हेनरिक सिवरसन ने डेनिश नेशलन बर्थ कोहोर्ट (DNBC)के  डेटा को कलेक्ट किया। डीएनबीसी की रिपोर्ट में 54,241 माता-पिता से प्रतिक्रियाएं शामिल कीं जिसमें उनसे अपने 7 साल के बच्चों के मेंटल हेल्थ के बारे में पूछा गया था। इसके अलावा इसमें 35 हजार पैरेंट्स ने अपने 11 साल के बच्चों के मेंटल हेल्थ के बारे में बताया था।

 

क्या आया सामने

रिसर्चर्स ने बताया कि जिन पैरेंट्स ने अपने बच्चों को किंडरगार्डन में एडमिशन 6 साल की उम्र में करवाया, उन बच्चों का परफॉरमेंस काफी अच्छा था। टेस्ट में इन बच्चों के अच्छे मार्क्स आए और 7 की उम्र तक पहुंचने तक इन बच्चों में सेल्फ-कंट्रोल काफी अच्छा था। इस बारे में मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि ये एक ऐसी एज होती है जब बच्चे अपने समय को बेहतर ढंग से इस्तेमाल करते हैं और साथ ही ध्यान केंद्रित करने में सक्षम होते हैं।

 

 

Related Post

पुणे जातीय हिंसा के विरोध में महाराष्ट्र बंद, ट्रेनें रोकीं

Posted by - January 3, 2018 0
रेलवे ट्रैक पर जुटे प्रदर्शनकारी, ईस्‍टर्न एक्‍सप्रेस हाईवे ब्‍लॉक, बस सेवाएं भी प्रभावित   मुंबई। पुणे में भीमा कोरेगांव युद्ध की…

चाइल्डकेयर में जाने वाले बच्चों का होता है अच्छा मानसिक विकास, जल्दी बना लेते हैं दोस्त

Posted by - October 4, 2018 0
पेरिस। कुछ कामकाजी महिलाएं ऑफिस जाने से पहले बच्चों को चाइल्डकेयर में छोड़कर जाती हैं। वहीं, कुछ ऐसी महिलाएं होती…

दिखने में सुंदर न होने की वजह से यूरोप में फेंक दिए जाते हैं इतने फल और सब्जियां

Posted by - August 21, 2018 0
लंदन। खाना फेंकने में भारतीयों को अव्वल माना जाता है। भारत में हर साल हजारों टन खाना लोग फेंक देते…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *