इस उम्र से पहले बच्चों को नहीं भेजना चाहिए स्कूल, हर पैरेंट्स को पता होनी चाहिए ये बात

64 0

सैक्रामेंटो ( कैलिफोर्निया)। भारत में ज्यादातर बच्चों को पैरेंट्स कम उम्र में स्कूल भेजना शुरू कर देते हैं।  एज ये तय नहीं करती है कि बच्चा स्कूल जाने के लिए तैयार है या नहीं। इस बारे में भारत में कई पैरेंट्स कन्‍फ्यूज रहते हैं कि बच्चों को कौन सी उम्र में स्कूल भेजना चाहिए। इस बारे में एक नई रिसर्च सामने आई है।

 

ऐसे की गई स्टडी

कैलिफोर्निया के स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के रिसर्चर्स थॉमस डी और हंस हेनरिक सिवरसन ने डेनिश नेशलन बर्थ कोहोर्ट (DNBC)के  डेटा को कलेक्ट किया। डीएनबीसी की रिपोर्ट में 54,241 माता-पिता से प्रतिक्रियाएं शामिल कीं जिसमें उनसे अपने 7 साल के बच्चों के मेंटल हेल्थ के बारे में पूछा गया था। इसके अलावा इसमें 35 हजार पैरेंट्स ने अपने 11 साल के बच्चों के मेंटल हेल्थ के बारे में बताया था।

 

क्या आया सामने

रिसर्चर्स ने बताया कि जिन पैरेंट्स ने अपने बच्चों को किंडरगार्डन में एडमिशन 6 साल की उम्र में करवाया, उन बच्चों का परफॉरमेंस काफी अच्छा था। टेस्ट में इन बच्चों के अच्छे मार्क्स आए और 7 की उम्र तक पहुंचने तक इन बच्चों में सेल्फ-कंट्रोल काफी अच्छा था। इस बारे में मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि ये एक ऐसी एज होती है जब बच्चे अपने समय को बेहतर ढंग से इस्तेमाल करते हैं और साथ ही ध्यान केंद्रित करने में सक्षम होते हैं।

 

 

Related Post

यूट्यूब के हेडक्वॉर्टर में गोलीबारी, महिला ने तीन को मारी गोली, फिर की खुदकुशी

Posted by - April 4, 2018 0
सैन ब्रूनो। उत्तरी कैलिफोर्निया के इस शहर में यूट्यूब के हेडक्वॉर्टर में एक महिला बंदूक लेकर दाखिल हो गई। उसने…

अगले तीन दिन कई राज्यों में चक्रवाती तूफान तो कुछ में तेज आंधी-बारिश का खतरा

Posted by - May 18, 2018 0
तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, गोवा, महाराष्ट्र और लक्षद्वीप में मछुआरों को समुद्र में न जाने की सलाह नई दिल्ली। मौसम विभाग ने…

मुस्लिमों को टिकट नहीं तो मुस्लिमों का वोट नहीं

Posted by - November 16, 2017 0
 गुजरात विधानसभा चुनाव में सूरत में लगाए गए पोस्टर, कांग्रेस को दी चेतावनी सूरत: गुजरात विधानसभा चुनावमें प्रचार के दौरान ऐसा लग…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *