आंखों में एक बूंद हल्दी डालकर डिमेंशिया का पता लगाया जा सकता है, जानिए क्या है लक्षण

62 0

लंदन। अक्‍सर लोग छोटी-मोटी चीजें इधर-उधर रखकर भूल जाया करते हैं। कई बार हमें लगता है कि हमारी याददाश्त कम हो रही है, लेकिन इसे गंभीरता से नहीं लिया जाता है तो कई बार हम इसके लक्षण को इग्‍नोर कर देते हैं। अगर आंख में एक बूंद हल्दी डाली जाए तो डिमेंशिया का पता लगाया जा सकता है। ब्रिटिश वैज्ञानिकों ने यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन में इस ड्रॉप को खोजा है।

ऐसे किया गया एक्सपेरिमेंट

चूहों की आखों में जब हर दिन एक बूंद हल्दी डालकर देखा गया तो अल्जाइमर रोग (डिमेंशिया का सबसे आम रूप) के बारे में पता लग पाया। इस बीमारी का पता लक्षण के पहले से ही चल गया। वैज्ञानिकों ने बताया कि कर्क्यूमिन, हल्दी में एक सक्रिय चीज है जो दिमाग में असामान्य प्रोटीन को बनाता है। यह एक फ्लोरोसेंट स्पॉट के रूप में दिखाई देता है। इसका पता तब चलता है जब आंखों के पीछे की ओर देखा जाता है।

जानिए क्या है डिमेंशिया

डिमेंशिया से ग्रस्त व्यक्ति की याददाश्‍त कमजोर हो जाती है। वह अपने दैनिक कार्य ठीक से नहीं कर पाते। कभी-कभी वह यह भी भूल जाते हैं कि वह किस शहर में हैं, या कौन सा साल या महीना चल रहा है। डिमेंशिया बीमारी दिमाग के कुछ खास सेल्स नष्ट होने से होती है। इन सेल्स के नष्ट होने से दिमाग के भीतर के अन्य सेल्स आपस में संचार नहीं कर पाते, जिससे सोचने की शक्ति कम होती है, व्यवहार और अनुभूतियों में दिक्कत आती है। डिमेंशिया की स्टेज है भूलना।

डिमेंशिया के लक्षण :

1.पीड़ित व्यक्ति रोज के रास्तों में ही खो जाते हैं, बोलने में दिक्कत आनी शुरू हो जाती है।

2.शारीरिक गतिविधियों में कमी आना,यही नहीं इसके साथ ही व्यक्ति के व्यवहार में भी बदलाव आने लगता है।

3.डिमेंशिया की गंभीर स्थिति में पीड़ित व्यक्ति रोज के काम नहीं कर पाता। वह अपने परिवार के लोगों को नहीं पहचान पाता, कोई बात उसकी समझ में नहीं आती। उसे किसी की सहायता की जरूरत पड़ती है।

4. डिप्रेशन का बढ़ना

Related Post

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *